Skip to main content

Posts

विशिष्ट पोस्ट

हमने अपने अस्लाफ के कारनामों को भुला दिया है

आज हम अपने अस्लाफ के कारनामों और क़ुर्बानियों से नावाक़फ़ीयत रखते हैं हमें अपने अस्लाफ के कारनामों की जानकारी नही उसी का नतीजा है कि हम अपना दफाह सही तरीके से नही कर पाते।और आसानी से बातिल ताक़त हम को ग़द्दार ए वतन साबित करने की कोशिश करते रहते हैं और हम जानकारी न होने की वजह से अपनी बात गहराई से रख नही पाते।आज ज़रूरत इस बात की है कि हम अपने तांबनाक तारीख़ का गहराई से मुतालः करें और वक़्तन फवक्तान अपने अस्लाफ को याद कर उनको खेराज ए अक़ीदत पेश किया करें साथ ही उनके कारनामों, क़ुर्बानियों से नौ जवान नस्ल को रौशनाश कराने का काम करें।                  मुल्क की आज़ादी के लिए जिस क़ौम के आबा व अजदाद ने बड़ी से बड़ी कुर्बानिया दीं उस की नस्ल को नाम नेहाद देश भक्त की नस्ल ग़द्दार ए वतन कहती हैं आज हमें मुत्तहिद होकर अपने हक़ की लड़ाई खुद लड़नी होगी अगर आप ये सोचते हैं कि आपके हक़ की लड़ाई कोई दूसरा बुलंद करेगा तो आप खुली हुई आँखों से ख्वाब देख रहे हैं।आज़ादी की लम्बी लड़ाई में जिन मुस्लिम रहनुमाओं, उलमाओं ने ने शहादत दी थी उन्हें हम ही ने फरामोश कर दिया है और उम्मीद दूसरों से लगाये बैठें हैं कि वे याद करें ,सोचने …
Recent posts

दीपों का पर्व दीवाली मुबारक मुबारक मुबारक हो

*मान* मिले *सम्मान* मिले,              *सुख - संपत्ति* का *वरदान* मिले.  *क़दम-क़दम* पर मिले *सफलता*,                   *सदियों* तक पहचान मिले। आपको एवं आपके   परिवार के सभी सदस्यों को   दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ..
*मोहम्मद कमरे आलम*

प्रशासनिक उदासीनता के कारण बाढ़ पीड़ित परिवार को नही मिला बाढ़ राहत राशि

प्रखण्ड जनता दल यू परिहार सीतामढ़ी के बैठक में कई अहम फैसला लिया गया और उसके क्रियान्वयन के लिए पारित प्रस्ताव की कॉपी पदाधिकारियों के भेजी गई है।बाढ़ आने के दो महीने बाद भी प्रखण्ड के सभी बाढ़ पीड़ित परिवार को बाढ़ राहत राशि प्रशासनिक उदासीनता के कारण नही मिलने पर चिंता प्रकट किया गया वही आर टी पी एस में दिए गए आवेदन खास कर दाखिल खारिज के मामले का समयावधि में निष्पादन नही किये जाने के मामले पर खेद व्यक्त किया।*** ओला वृष्टि में किसानों की फर्जी सूची तैयार कर क्षति पूर्ति राशि का गबन ***बिहार में पूर्ण शराब बंदी होने के बाद भी नेपाल से शराब लाकर होम डिलीवरी को लेकर थाना प्रभारी से डेलीगेट के रूप में मिलने का प्रस्ताव पारित किया गया।जनता दल के वरिष्ठ नेता श्री राकेश कुमार सिंह ने प्रस्ताव दिया कि ओला वृष्टि से प्रभावित किसानों के बीच राहत राशि वितरण में भेद भाव किया गया और उगाही आधारित भुगतान किया गया और फर्जी किसानों की सूची तैयार कर फर्जी वारा किया गया है जिसकी उच्च स्तरीय जाँच होनी चाहिए।  आरोप लगाया गया है बाढ़ पीड़ित परिवार की सूची माँगे जाने के बाद भी उपलब्ध नहीं करवाई जा रही है जिसको ल…

True Balance App डाउनलोड कर असीमित रिचार्ज बैलेंस हासिल करें

दोस्तों यह True Balance App डाऊनलोड कर एकाउंट क्रिएट कर असीमित रिचार्ज बैलेंस हासिल कर अपने किसी भी नेटवर्क मोबाइल नंबर को रिचार्ज कर सकते हैं एकाउंट क्रिएट होते ही 10 रुपये का बैलेंस मिल जाता है आप अपने दोस्तों को invite कर आगे रिचार्ज बैलेंस हासिल कर सकते हैं  that lets you Check & Recharge Mobile Balance, Earn Rewards, all in one go! Try it : http://share.tbal.io/v2/app?m=&code=2D722XF2

मन की बात

महजबीं
------
दिल में किना रखने वाले, तानाशाह दिमाग़ रखनेवाले, दिल तोड़ने वाले, बेमौत मारने वाले भी यह अहसास रखते हैं कि मन क्या होता है, और मन क्या चाहता है, मन की बात कैसे समझी जाती है, मन की बात सिर्फ़ सुनाई नहीं सुनी भी जाती है? तमाम जानदार चींज़े मन रखतीं हैं वो वाहिद एक शख़्स नहीं जो मन रखते हैं। जनमत इकट्ठा करने के लिए कारोबारी और सियासी लोगों ने समय- समय पर तरह-तरह की टेकनीक इस्तेमाल की, संवेदनशील प्रभावित करने वाली भाषा का प्रयोग किया, यह कोई नई बात नहीं है यही होता आया है। अपने आप को सत्ता में बनाए रखने के लिए तरह-तरह के परोपेगेंडा का इस्तेमाल किया जाता रहा है, लेकिन अब " मन " का भी इस्तेमाल किया जाने लगा है।मनुष्य को समाज में रहना होता है और समाज में रहने के लिए सामाजिक मूल्यों की जानकारी रखनी होती है उन पर चलना पड़ता है समाजिक व्यवहार के लिए विचारों के आदान-प्रदान के लिए शिक्षण- अधिगम प्रक्रिया को अंजाम दिया जाता है और समाज में ही रहने के लिए,  भाषा को सीखना होता है मातृभाषा, माध्यमभाषा, व्यापार की अंतरराष्ट्रीय भाषा सभी सीखने की ज़रूरत होती है। भाषा में पारंगत ह…

सीतामढ़ी ज़िला में गाँधी कथा वाचन व बापू आप के द्वार कार्यक्रम आयोजित

जिला प्रशसन द्वारा आयोजित गाँधी कथा वाचन एवम् गाँधी आपके द्वार कार्यक्रम  के उद्घघाटन समारोह का संचालन करते हुए मुख्य कार्यक्रम समन्वयक श्री नागेन्द्र कुमार पासवान साथ में एम् एल सी श्री राजकिशोर कुशवाह जिला परिषद् अध्यक्ष उमा देवी ,उपाध्यक्ष श्री देवेन्द्र साह ,जिला पदाधिकारी, जिला शिक्षा पदाधिकारी जिला कार्यक्रम पदाधिकारी एवम् साक्षरता कर्मी

क्या वाकई औरंगजेब हिंदुओं के लिए सबसे बुरा शासक था ?

क्या वाकई औरंगजेब हिंदुओं के लिए सबसे बुरा शासक था ? भारतीय इतिहास में सबसे विवादित मुगल शासक औरंगजेब जिसे भारत मे सबसे बुरा शासक कहा जाता है पढ़िये उसी से सम्बंधित ये तर्क पूर्ण विवेचना। तीन मार्च 1707 को मुगल शासक औरंगजेब की मृत्यु हुई थी। केंद्र में नरेंद्र मोदी और भाजपा की अगुवाई वाली सरकार बनने के बाद से इतिहास की राजनीति में दखलंदाजी अचानक बढ़ने लगी. करीब डेढ़ साल पहले नई दिल्ली नगरपालिका परिषद ने औरंगजेब रोड का नाम बदलकर डॉ एपीजे अब्दुल कलाम रोड कर दिया. भाजपा और आम आदमी पार्टी ने इस फैसले का स्वागत किया तो कांग्रेस ने इस पर सोची-समझी चुप्पी धारण कर ली. इस फैसले ने लंबे समय से महाराष्ट्र के औरंगाबाद का नाम बदलने की मांग कर रही शिवसेना का उत्साह भी बढ़ा दिया. औरंगाबाद दक्षिण भारत में मुगलों की राजधानी रही है जिसे अहमदनगर सल्तनत के पेशवा मलिक अंबर ने स्थापित किया था. शिवसेना की मांग थी कि औरंगाबाद का नाम शिवाजी के बेटे संभाजी के नाम पर संभाजी नगर कर दिया जाए. ज्यादातर लोगों को लगता है कि इतिहास अतीत की घटनाओं का क्रमिक अध्ययन है; तथ्यों, घटनाओं और संख्याओं का रूखा-सूखा लेखा-जोखा.…

बुनियादी महा परीक्षा का मार्क्स फ़ाइल 22 सितम्बर तक ज़िला को उपलब्ध करावें - मुख्य कार्यक्रम समन्वयक

मुख्य कार्यक्रम समन्वयक नागेन्द्र कुमार पासवान ने पत्र निर्गत कर 17 सितम्बर 2017 को सम्पन्न महापरीक्षा का हर हाल में 20 सितम्बर 2017 तक मूल्यांकन करा कर 22 सितम्बर 2017 तक अंतिम रूप से मार्क्स फाइल जिला को उपलब्ध कराने का निर्देश ज़िला के सभी प्रखण्ड कार्यक्रम समन्वयक साक्षर भारत को दिया है।