Skip to main content

Posts

Showing posts from 2017

दीपों का पर्व दीवाली मुबारक मुबारक मुबारक हो

*मान* मिले *सम्मान* मिले,              *सुख - संपत्ति* का *वरदान* मिले.  *क़दम-क़दम* पर मिले *सफलता*,                   *सदियों* तक पहचान मिले। आपको एवं आपके   परिवार के सभी सदस्यों को   दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ..
*मोहम्मद कमरे आलम*

प्रशासनिक उदासीनता के कारण बाढ़ पीड़ित परिवार को नही मिला बाढ़ राहत राशि

प्रखण्ड जनता दल यू परिहार सीतामढ़ी के बैठक में कई अहम फैसला लिया गया और उसके क्रियान्वयन के लिए पारित प्रस्ताव की कॉपी पदाधिकारियों के भेजी गई है।बाढ़ आने के दो महीने बाद भी प्रखण्ड के सभी बाढ़ पीड़ित परिवार को बाढ़ राहत राशि प्रशासनिक उदासीनता के कारण नही मिलने पर चिंता प्रकट किया गया वही आर टी पी एस में दिए गए आवेदन खास कर दाखिल खारिज के मामले का समयावधि में निष्पादन नही किये जाने के मामले पर खेद व्यक्त किया।*** ओला वृष्टि में किसानों की फर्जी सूची तैयार कर क्षति पूर्ति राशि का गबन ***बिहार में पूर्ण शराब बंदी होने के बाद भी नेपाल से शराब लाकर होम डिलीवरी को लेकर थाना प्रभारी से डेलीगेट के रूप में मिलने का प्रस्ताव पारित किया गया।जनता दल के वरिष्ठ नेता श्री राकेश कुमार सिंह ने प्रस्ताव दिया कि ओला वृष्टि से प्रभावित किसानों के बीच राहत राशि वितरण में भेद भाव किया गया और उगाही आधारित भुगतान किया गया और फर्जी किसानों की सूची तैयार कर फर्जी वारा किया गया है जिसकी उच्च स्तरीय जाँच होनी चाहिए।  आरोप लगाया गया है बाढ़ पीड़ित परिवार की सूची माँगे जाने के बाद भी उपलब्ध नहीं करवाई जा रही है जिसको ल…

True Balance App डाउनलोड कर असीमित रिचार्ज बैलेंस हासिल करें

दोस्तों यह True Balance App डाऊनलोड कर एकाउंट क्रिएट कर असीमित रिचार्ज बैलेंस हासिल कर अपने किसी भी नेटवर्क मोबाइल नंबर को रिचार्ज कर सकते हैं एकाउंट क्रिएट होते ही 10 रुपये का बैलेंस मिल जाता है आप अपने दोस्तों को invite कर आगे रिचार्ज बैलेंस हासिल कर सकते हैं  that lets you Check & Recharge Mobile Balance, Earn Rewards, all in one go! Try it : http://share.tbal.io/v2/app?m=&code=2D722XF2

मन की बात

महजबीं
------
दिल में किना रखने वाले, तानाशाह दिमाग़ रखनेवाले, दिल तोड़ने वाले, बेमौत मारने वाले भी यह अहसास रखते हैं कि मन क्या होता है, और मन क्या चाहता है, मन की बात कैसे समझी जाती है, मन की बात सिर्फ़ सुनाई नहीं सुनी भी जाती है? तमाम जानदार चींज़े मन रखतीं हैं वो वाहिद एक शख़्स नहीं जो मन रखते हैं। जनमत इकट्ठा करने के लिए कारोबारी और सियासी लोगों ने समय- समय पर तरह-तरह की टेकनीक इस्तेमाल की, संवेदनशील प्रभावित करने वाली भाषा का प्रयोग किया, यह कोई नई बात नहीं है यही होता आया है। अपने आप को सत्ता में बनाए रखने के लिए तरह-तरह के परोपेगेंडा का इस्तेमाल किया जाता रहा है, लेकिन अब " मन " का भी इस्तेमाल किया जाने लगा है।मनुष्य को समाज में रहना होता है और समाज में रहने के लिए सामाजिक मूल्यों की जानकारी रखनी होती है उन पर चलना पड़ता है समाजिक व्यवहार के लिए विचारों के आदान-प्रदान के लिए शिक्षण- अधिगम प्रक्रिया को अंजाम दिया जाता है और समाज में ही रहने के लिए,  भाषा को सीखना होता है मातृभाषा, माध्यमभाषा, व्यापार की अंतरराष्ट्रीय भाषा सभी सीखने की ज़रूरत होती है। भाषा में पारंगत ह…

सीतामढ़ी ज़िला में गाँधी कथा वाचन व बापू आप के द्वार कार्यक्रम आयोजित

जिला प्रशसन द्वारा आयोजित गाँधी कथा वाचन एवम् गाँधी आपके द्वार कार्यक्रम  के उद्घघाटन समारोह का संचालन करते हुए मुख्य कार्यक्रम समन्वयक श्री नागेन्द्र कुमार पासवान साथ में एम् एल सी श्री राजकिशोर कुशवाह जिला परिषद् अध्यक्ष उमा देवी ,उपाध्यक्ष श्री देवेन्द्र साह ,जिला पदाधिकारी, जिला शिक्षा पदाधिकारी जिला कार्यक्रम पदाधिकारी एवम् साक्षरता कर्मी

क्या वाकई औरंगजेब हिंदुओं के लिए सबसे बुरा शासक था ?

क्या वाकई औरंगजेब हिंदुओं के लिए सबसे बुरा शासक था ? भारतीय इतिहास में सबसे विवादित मुगल शासक औरंगजेब जिसे भारत मे सबसे बुरा शासक कहा जाता है पढ़िये उसी से सम्बंधित ये तर्क पूर्ण विवेचना। तीन मार्च 1707 को मुगल शासक औरंगजेब की मृत्यु हुई थी। केंद्र में नरेंद्र मोदी और भाजपा की अगुवाई वाली सरकार बनने के बाद से इतिहास की राजनीति में दखलंदाजी अचानक बढ़ने लगी. करीब डेढ़ साल पहले नई दिल्ली नगरपालिका परिषद ने औरंगजेब रोड का नाम बदलकर डॉ एपीजे अब्दुल कलाम रोड कर दिया. भाजपा और आम आदमी पार्टी ने इस फैसले का स्वागत किया तो कांग्रेस ने इस पर सोची-समझी चुप्पी धारण कर ली. इस फैसले ने लंबे समय से महाराष्ट्र के औरंगाबाद का नाम बदलने की मांग कर रही शिवसेना का उत्साह भी बढ़ा दिया. औरंगाबाद दक्षिण भारत में मुगलों की राजधानी रही है जिसे अहमदनगर सल्तनत के पेशवा मलिक अंबर ने स्थापित किया था. शिवसेना की मांग थी कि औरंगाबाद का नाम शिवाजी के बेटे संभाजी के नाम पर संभाजी नगर कर दिया जाए. ज्यादातर लोगों को लगता है कि इतिहास अतीत की घटनाओं का क्रमिक अध्ययन है; तथ्यों, घटनाओं और संख्याओं का रूखा-सूखा लेखा-जोखा.…

बुनियादी महा परीक्षा का मार्क्स फ़ाइल 22 सितम्बर तक ज़िला को उपलब्ध करावें - मुख्य कार्यक्रम समन्वयक

मुख्य कार्यक्रम समन्वयक नागेन्द्र कुमार पासवान ने पत्र निर्गत कर 17 सितम्बर 2017 को सम्पन्न महापरीक्षा का हर हाल में 20 सितम्बर 2017 तक मूल्यांकन करा कर 22 सितम्बर 2017 तक अंतिम रूप से मार्क्स फाइल जिला को उपलब्ध कराने का निर्देश ज़िला के सभी प्रखण्ड कार्यक्रम समन्वयक साक्षर भारत को दिया है।

बिहार के नियोजित अप्रशिक्षित शिक्षकों को वेतन नही मिलने के कारण NIOS प्रशिक्षण कोर्स में रजिस्ट्रेशन को हो रही परेशानी

बिहार के नियोजित अप्रशिक्षित शिक्षकों को वेतन नही मिलने के कारण NIOS प्रशिक्षण कोर्स में रजिस्ट्रेशन को हो रही परेशानी
बिहार के नियोजित अप्रशिक्षित शिक्षकों को चार महीने से वेतन नही मिलने के कारण NIOS प्रशिक्षण कोर्स में पैसे के अभाव में रजिस्ट्रेशन नही करवा पा रहे हैं ।अप्रशिक्षित शिक्षकों को प्रशिक्षण के लिए NIOS में 15 सितम्बर 2017 तक रजिस्ट्रेशन करवा लेना है शिक्षकों को निबंधन के समय ही प्रथम वर्ष का शुल्क 4500 सौ नेट बैंकिंग के ज़रिए भुगतान करना है मगर पैसे के अभाव में शिक्षक निबन्धन नही करवा पा रहे हैं जो शिक्षक सम्पन्न परिवार से हैं वह तो निबन्धन करवा लिए या करवा रहे हैं मगर जो वेतन पर ही आश्रित हैं वे वेतन का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे हैं और तनाव में पड़े हुए हैं।सरकार को चाहिए कि शिक्षकों का बकाया वेतन भुगतान करे ताकि समस्याओं से जूझते शिक्षकों की परेशानी दूर हो साथ ही निबन्धन की तिथि को विस्तारित की जाए।

परिहार प्रखण्ड के कई गाँव बाढ़ के ज़द में ,घरों में घुसा पानी

परिहार सीतामढ़ी।लगातार भीषण वर्षा से परिहर  प्रखण्ड के कई गाँव बाढ़ के ज़द में आ गया है ,और बाढ़ का पानी घरों में घुस चुका है और लोगों के ज़िन्दगी को तबाही में डाले हुए है।बाढ़ का पानी एकडण्डी, सोनापट्टी, परिहार में सड़कों के ऊपर से गुज़र रहा है।

महादलित अल्पसंख्यक एवं अतिपिछड़ा वर्ग अक्षर आँचल योजना की एक अच्छी खासी रक़म मोनिटरिंग/प्रबोधन में खर्च जिसका कोई औचित्य नहीं है

महादलित अल्पसंख्यक एवं अतिपिछड़ा वर्ग अक्षर आँचल योजना की एक अच्छी खासी रक़म मोनिटरिंग/प्रबोधन में खर्च जिसका कोई औचित्य नहीं है
------------------------
बिहार सरकार द्वारा संपोषित योजना मुख्यमंत्री अक्षर आँचल योजना के अंतर्गत संचालित कार्यक्रम "" महादलित अल्पसंख्यक एवं अतिपिछड़ा वर्ग अक्षर आँचल योजना "" की एक अच्छी खासी रक़म मोनिटरिंग/प्रबोधन में खर्च की जा रही है जिसका कोई औचित्य नहीं है ज़िला स्तरीय लोक शिक्षा
समिति, प्रखण्ड समन्वयक साक्षर भारत और के आर पी को प्रबोधन कार्य से अलग कर इस राशि से शिक्षा स्वयं सेवी के मानदेय में इज़ाफ़ा तत्काल प्रभाव से किया जा सकता है।अगर प्रबोधन कार्य से उक्त सभी को अलग कर दिया जाता है तो इनपर व्यय राशि शिक्षा स्वयं सेवी को दे दी जाती है तो शिक्षा स्वयं सेवी का मानदेय प्रति माह@Rs 11810.25 रुपये हो जाएगा। या इतनी बड़ी राशि से 13383 नये शिक्षा स्वयं सेवी बहाल किया जा सकता है ।मालूम हो कि इस कार्यक्रम की मॉनिटरिंग और प्रबोधन के नाम पर प्रति वर्ष @Rs 107064000 दस करोड़ सत्तर लाख चौसठ हज़ार रुपये की एक बड़ी रकम खर्च कर दी जाती है जिसका ज़मीनी हक़…

मानदेय भुगतान की माँग

सेवा में,
ज़िला पदाधिकारी -सह-अध्यक्ष
महादलित अल्पसंख्यक एवंम अति      पिछड़ा वर्ग अक्षर आँचल योजना,  सीतामढ़ी
विषय:-मानदेय भुगतान के संबंध में।
महाशय,
उपर्युक्त विषयक संबंध में अंकित करना है कि तत्कालीन ज़िला कार्यक्रम पदाधिकारी साक्षरता सीतामढ़ी ने  पत्रांक 42    दिनांक 13.02.217  के द्वारा  निदेशक जन शिक्षा शिक्षा विभाग पटना से 46 शिक्षा स्वयं सेवक के मानदेय भुगतान हेतु जनवरी 2016 से मानदेय भुगतान मद में राशि की माँग की थी उक्त पत्रांक के आलोक में निदेशक जन शिक्षा पटना ने क्रमशः तीन पत्रांक:- 483 दिनांक 08.03.2017, पत्रांक:- 1134 दिनांक  24.05.2017 को निर्गत कर नियोजन एवं प्रशिक्षण से संबंधित प्रतिवेदन साक्ष्य के साथ समर्पित करने का निदेश ज़िला कार्यक्रम पदाधिकारी सीतामढ़ी को दिया था ताकि मानदेय भुगतान की राशि आवंटित की जा सके मगर प्रतिवेदन प्रस्तुत नही किया गया।पुनः निदेशक जन शिक्षा पटना ने पत्रांक 1312 दिनांक 14.06.2017 और पत्रांक 1312 दिनांक 14.06.2017 निर्गत कर एक सप्ताह के अन्दर प्रतिवेदन की माँग की मगर ज़िला कार्यक्रम पदाधिकारी साक्षरता सीतामढ़ी के द्वारा प्रतिवेदन निदेशक जन शिक्षा पट…

परिहार प्रखण्ड के 1से 8 वर्ग के छात्रों को नही मिली अभी तक छात्रवृति

परिहार प्रखण्ड के प्राथमिक/मध्य विद्यालय में अध्ययनरत 1से 8 वर्ग के छात्रों को फाइनेंसियल ईयर 2016 - 2017 की पोशाक राशि और छात्रवृति की राशि अभी तक नही मिली छात्रवृति और पोशाक राशि प्राप्ति की आशा लिए आगे की कक्षा में चले गए हैं।

भारत का राष्ट्रीय प्रतिक

भारत का राष्ट्रीय ध्वज - तिरंगा
भारत का राष्ट्रीय गान - जन-गन-मन
भारत का राष्ट्रीय गीत - वन्दे मातरम्
भारत का राष्ट्रीय चिन्ह - अशोक स्तम्भ
भारत का राष्ट्रीय पंचांग - शक संवत
भारत का राष्ट्रीय वाक्य - सत्यमेव जयते
भारत की राष्ट्रीयता - भारतीयता
भारत की राष्ट्र भाषा - हिंदी
भारत की राष्ट्रीय लिपि - देव नागरी
भारत का राष्ट्रीय ध्वज गीत - हिंद देश
का प्यारा झंडा
भारत का राष्ट्रीय नारा - श्रमेव जयते
भारत की राष्ट्रीय विदेशनीति -गुट निरपेक्ष
भारत का राष्ट्रीय पुरस्कार - भारत रत्न
भारत का राष्ट्रीय सूचना पत्र - श्वेत पत्र
भारत का राष्ट्रीय वृक्ष - बरगद
भारत की राष्ट्रीय मुद्रा - रूपया
भारत की राष्ट्रीय नदी - गंगा
भारत का राष्ट्रीय पक्षी - मोर
भारत का राष्ट्रीय पशु - बाघ
भारत का राष्ट्रीय फूल - कमल
भारत का राष्ट्रीय फल - आम
भारत की राष्ट्रीय योजना - पञ्च वर्षीय योजना
भारत का राष्ट्रीय खेल - हॉकी
भारत की राष्ट्रीय मिठाई - जलेबी
भारत के राष्ट्रीय पर्व 26 जनवरी (गणतंत्र दिवस) और 15 अगस्त (स्वतंत्रता दिवस)

बिहार तालीमी मरकज़ संघ ने शिक्षा मंत्री को सौंपा ज्ञापन

बिहार तालीमी मरकज़ शिक्षा स्वयं सेवी संघ बिहार का एक शिष्ट मंडल तारिक़ अनवर प्रदेश महा सचिवके नेतृत्व में शिक्षा मंत्री बिहार से उन के कार्याल कक्ष में मिलकर लम्बित मानदेय भुगतान और सेवाशर्त निर्धारण से संबंधित माँग पत्र सौंपा ,माँग पत्र में मुख्य रूप से अप्रैल 2017 से अब तक बकाया मानदेय राशि का भुगतान बक़र ईद पर्व से पूर्व करने और लम्बित सेवा शर्त का निर्धारण कर नियमावली की अधिसूचना जारी किए जाने की माँग की गई है। शिष्ट मण्डल में मोहम्मद अकबर, वकील अहमद आदि मौजूद थे।इसी से संबंधित एक आवेदन डायरेक्टर मास एजुकेशन पटना को भी दिया गया है।

साक्षरता कर्मी की भूमिका शिक्षकों से कम नही :- डी पी ओ साक्षरता सीतामढ़ी

ज़िला लोक शिक्षा समिति सीतामढ़ी द्वारा परिहार हाई स्कूल के सभागार में आयोजित चार प्रखण्डों सोनबरसा, परिहार, बथनाहा और सुरसंड के समन्वयक, प्रेरक, टोला सेवक, तालिमी मरकज़ शिक्षा स्वयं सेवी उन्मुखीकरण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए ज़िला कार्यक्रम पदाधिकारी साक्षरता सीतामढ़ी जनाब नुरुल होदा खान ने कहा कि साक्षरता कर्मियों की भूमिका किसी शिक्षक से कम नही नॉन फॉर्मल तरीके से दी गई तालीम का असर देर पा होता है और बच्चे हासिल की गई तालीम को भूलते नही उन्होंने आगे कहा कि सरकार ने आप को जिस मक़सद के लिए बहाल किया है उसको पूरी ईमानदारी से अंजाम दें अगर ईमानदारी से काम करेंगें तो वह वक़्त दूर नही जब आप शिक्षक के रूप में स्थापित होंगें सरकार आपकी कारकर्दगी को बारीकी से देख रही है। अगर किसी तरह की कोई परेशानी होती है तो हमसे सीधा राब्ता क़ायम करें हम उसका हल निकालेंगे।
उन्होंने कहा कि इस तरह का हमारा यह आखिरी प्रोग्राम नही बल्कि हर तीन महीने पर इस तरह का प्रोग्राम होगा ताकि हम और आप एक दूसरे से रु बरु होते रहे और साक्षरता के हलका में सीतामढ़ी का नाम पूरे बिहार में रौशन कर सकें।कार्यक्रम को संबोधित करते हुए म…

नेक मोहम्मद अंसारी बने सीतामढ़ी तालीमी मरकज़ संघ सीतामढ़ी के अध्यक्ष

सीतामढ़ी ज़िला तालीमी मरकज़ संघ के अध्यक्ष एजाज़ कौसर खान के त्याग पत्र देने के बाद अध्यक्ष का पद खाली हो गया था अध्यक्ष पद के चुनाव को लेकर आज तालीमी मरकज़ संघ की एक बैठक ललित आश्रम सीतामढ़ी के प्रांगण में मोहम्मद सगीर अंसारी की अध्यक्षता में बुलाई गई बैठक में अध्यक्ष पद के चुनाव को लेकर जम कर चर्चा हुई मगर सर्वसम्मति से जिला अध्यक्ष का चुनाव नही हो पाया अध्यक्ष के लिए दो उम्मीदवार आमने सामने आए तो गुप्त मतदान से अध्यक्ष का चुनाव कराने का निर्णय लिया गया।गुप्त मतदान में सत्रह प्रखण्ड अध्यक्षों में से तेरह प्रखण्ड अध्यक्षों ने अपना मत नेक मोहम्मद अंसारी को दिया वही दूसरे उम्मीदवार शाहिद रेज़ा को चार मत प्राप्त हुआ और चुनाव पर्यवेक्षक ने नेक मोहम्मद अंसारी को जिला अध्यक्ष के रूप में अध्यक्ष निर्वाचित घोषित किया।बैठक में निर्वाचित अध्यक्ष को एक सप्ताह के भीतर ज़िला कार्यकारिणी का गठन करने का अधिकार सौंप दिया।
ज़िला अध्यक्ष निर्वाचित होने पर नेक मोहम्मद अंसारी को मोहम्मद कमरे आलम, इम्तेयाज़ अहमद, अनवर दिलवर, रहमत अली सोनबरसा सैदर आदि ने मुबारक बाद दी है और उम्मीद ज़ाहिर किया है कि आप के अगुआई में ज…

सीतामढ़ी ज़िला तालीमी मरकज़ संघ हक़ीक़त के आईने में

सीतामढ़ी ज़िला तालीमी मरकज़ संघ हक़ीक़त के आईने में
------------------------------
सीतामढ़ी ज़िला में तालीमी मरकज़ का आग़ाज़ सन 2010 में हुआ शुरुआती दौर में कुछ लोगों ने जिला तालीमी मरकज़ संघ का जिला अध्यक्ष पुपरी के रहने वाले इम्तेयाज़ साहब को बनाया इम्तेयाज़ साहब के बाद नानपुर ब्लॉक के एजाज़ कौसर खान को इस बुनियाद पर जिला सदर की सदारत सौंपी गई कि ये सीतामढ़ी में ही मुक़ीम रहते हैं ।सीतामढ़ी रहने की वजह कर तालीमी मरकज़ के रेज़ाकारों की परेशानिओं का एजाला अफसर से मिलकर करेंगें साथ ही संघ को मजबूत कर संघर्ष कर सरकार से तालीमी मरकज़ को वाज़िब हक़ दिलवाएंगे मगर तालीमी मरकज़ के लोगों का यह ख्वाब ख्वाब ही बन कर रह गया और आज अपने आप को ठगा सा महसूस कर रहे हैं।ज़िला से लेकर प्रखण्ड सतह तक तालीमी मरकज़ संघ का कोई वजूद नही है हाँ नाम नेहाद ज़िला सदर ब्लॉक सदर ज़रूर हैं जिनको तालीमी मरकज़ के लोगों से खातिर खाह कोई लेना देना नही।हक़ीक़त तो ये है कि जिला में तालीमी मरकज़ का कोई फयाल वर्किंग कमेटी नही है वही हाल ब्लॉक सतह का भी है इनके ज़िला सदर और ब्लॉक सतह के सदर का काम सिर्फ और सिर्फ ओहदा महफूज़ रहे ताकि ऑफिसर की निगाहें करम ब…

प्रतिवेदन के अभाव में सीतामढ़ी के 45+1 शिक्षा स्वयं सेवियों का मानदेय भुगतान अधर में

तत्कालीन ज़िला कार्यक्रम पदाधिकारी साक्षरता सीतामढ़ी ने निदेशक जन शिक्षा पटना को पत्र लिखकर 46 शिक्षा स्वयं सेवक के मानदेय भुगतान करने के लिए जनवरी 2016  से राशि की माँग की गई थी जिसके आलोक में निदेशक जन शिक्षा पटना ने पूर्व में दो पत्र क्रमशः पत्रांक 483 दिनांक 08.03.2017 और पत्रांक 1134 दिनांक  24.05.2017 को निर्गत कर नियोजन एवं प्रशिक्षण से संबंधित प्रतिवेदन साक्ष्य के साथ समर्पित करने का निदेश ज़िला कार्यक्रम पदाधिकारी सीतामढ़ी को दिया था ताकि मानदेय भुगतान की राशि आवंटित की जा सके मगर प्रतिवेदन प्रस्तुत नही किया गया।पुनः निदेशक जन शिक्षा पटना ने पत्रांक 1312 दिनांक 14.06.2017 निर्गत कर एक सप्ताह के अन्दर प्रतिवेदन की माँग की और लिखा है कि प्रतिवेदन उपलब्ध नहीं होने की स्थिति में मानदेय भुगतान नही होने के फलस्वरूप सारी जवाबदेही आपकी मानी जायेगी।
बताते चलें कि जनवरी 2016 में 45 शिक्षा स्वयं सेवी का योगदान कराया गया था और एक शिक्षा स्वयं सेवी का योगदान ज़िला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी सीतामढ़ी के निर्णय के आलोक में जुलाई 2016 को अमल में आया था।""पाँच माह पश्चात भी ज़िला साक्षरता…

मृत टोला सेवक पुनदेव सादा की पत्नी को मिला अनुग्रह अनुदान राशि का चेक

ज़िला कार्यक्रम पदाधिकारी साक्षरता सीतामढ़ी प्रेम चन्द्र ने मृत टोला सेवक पुनदेव सादा की पत्नी को अनुग्रह अनुदान राशि चार लाख रुपये का चेक सौंप।मौके पर ज़िला एम डी एम प्रभारी जय शंकर ठाकुर, पूर्व जिला परिषद अध्यक्ष व पूर्व एम एल सी दिलीप यादव, मुख्य कार्यक्रम समन्वयक नागेन्द्र पासवान, एस आर जी मधु, टोला सेवक संघ सीतामढ़ी के जिला अध्यक्ष रघुनंदन बैठा, सगीर अंसारी, नेक मुहम्मद अंसारी उपस्थित थे।

जिला साक्षरता सीतामढ़ी में लाखों रुपये मानदेय राशि का फर्ज़ीवाड़ा कर ग़बन

जिला साक्षरता सीतामढ़ी में लाखों रुपये का फर्ज़ीवाड़ा
--------------
जिला साक्षरता सीतामढ़ी में फ़र्ज़ी 21(इक्कीस) तालिमी मरकज़ शिक्षा स्वयं सेवी के बैंक खातों में मानदेय राशि हस्तांत्रित कर लाखों रुपये का फर्ज़ीवाड़ा कर ग़बन किया जा रहा है।
मालूम हो कि जिला सीतामढ़ी में जनवरी 2016 में 45 तालिमी मरकज़ शिक्षा स्वयं सेवी को दो दिवसीय प्रशिक्षण देकर योगदान करवाया गया था और एक तालिमी मरकज़ शिक्षा स्वयं सेवी को जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी सीतामढ़ी के निर्णय के आलोक में 11जुलाई 2016 को योगदान करवाया गया था मगर अब तक इन शिक्षा स्वयं सेवकों को मानदेय राशि का भुगतान नहीं किया गया और वही 21 (इक्कीस) तालिमी मरकज़ शिक्षा स्वयं सेवकों को आनन फानन में 29 जुलाई 2016 को योगदान दिखा  कर उन के बैंक खातों में मानदेय राशि भेज कर सरकारी राशि का ग़बन किया जा रहा है।जबकि जानकारों का कहना है कि इन नव नियोजित शिक्षा स्वयं सेवियों के द्वारा संबंधित विद्यालयों में योगदान भी नहीं किया है।

मानदेय राशि/हौसला अफजाई रक़म

मानदेय राशि/हौसला अफजाई रक़म
-----------------------------------
बेरोज़गारी से तंग, परिवारों के तानों से परेशान मानदेय मिलने वाले कामों को करने पर मजबूर लोगों को मानदेय /हौसला अफजाई रक़म सरकार के पदाधिकारी देना नही चाहते हैं।मानदेय वाली नौकरी (काम) बेरोज़गार नौजवान मज़बूरी में करते हैं ताकि फ़ाक़ा कशी से तंग आकर खुदकशी न करना न पड़े मगर पदाधिकारी मानदेय राशि/हौशला अफ़ज़ाई रक़म का पेमेंट न कर मानदेय पर काम करने वाले लोगों को आत्महत्या करने पर उत्साहित नही करती है तो क्या कर रही है  ?
सरकार के शक्तिशाली पदों पर बैठे लोगों को ये एहसास नहीं होता है कि भूख प्यास, बेरोज़गारी, परिवार के तानों का तंज़ क्या होता है ? अगर सरकार हौसला अफजाई रक़म भी वक़्त पर नही दे सकती  तो हौसला अफजाई जैसे चलने वाले कार्यक्रम को सरकार को बन्द कर देनी चाहिए और कीमती मानव जीवन को खत्म करने का कानूनी हक दे देनी चाहिए।

मानदेय राशि/हौसला अफजाई रक़म

मानदेय राशि/हौसला अफजाई रक़म
-----------------------------------
बेरोज़गारी से तंग, परिवारों के तानों से परेशान मानदेय मिलने वाले कामों को करने पर मजबूर लोगों को मानदेय /हौसला अफजाई रक़म सरकार के पदाधिकारी देना नही चाहते हैं।मानदेय वाली नौकरी (काम) बेरोज़गार नौजवान मज़बूरी में करते हैं ताकि फ़ाक़ा कशी से तंग आकर खुदकशी न करना न पड़े मगर पदाधिकारी मानदेय राशि/हौशला अफ़ज़ाई रक़म का पेमेंट न कर मानदेय पर काम करने वाले लोगों को आत्महत्या करने पर उत्साहित नही करती है तो क्या कर रही है  ?
सरकार के शक्तिशाली पदों पर बैठे लोगों को ये एहसास नहीं होता है कि भूख प्यास, बेरोज़गारी, परिवार के तानों का तंज़ क्या होता है ? अगर सरकार हौसला अफजाई रक़म भी वक़्त पर नही दे सकती  तो हौसला अफजाई जैसे चलने वाले कार्यक्रम को सरकार को बन्द कर देनी चाहिए और कीमती मानव जीवन को खत्म करने का कानूनी हक दे देनी चाहिए।

इंसाफ - इंडिया के राष्ट्रीय संयोजक मुस्तकीम सिद्दीकी को गोड्डा टाउन थाना के थाना प्रभारी ने दी मुक़दमा में फ़साने की धमकी, सिद्दीकी की ज़ुबानी

इंसाफ_इंडिया : गोड्डा टाउन थाना प्रभारी अशोक गिरी ने साथी Ranjit Inquilab Godda के फोन से मुझे धमकी दी है, मेरे साथी को टाउन थाना में बुलाकर झुटे मुकदमे में फसाने की बात कही है , गोड्डा टाउन थाना में कुछ साथियों को मेरे बारे में देशद्रोही एवं दंगा भड़काने में संलिप्ता का किया प्रोपेगंडा lमेरा कसुर : मैने 16 जुन को गोड्डा में कुछ साथियों के साथ झारखंड नवनिर्माण की बैठक का आहवान किया था lजब मैने पुलिस अधिक्षक (एस पी) गोड्डा से ऐसे झुटे आरोप के बारे बात करना चाहा तो एस पी गोड्डा ने अपने थाना प्रभारी की बात को सही ठहराते हुए हम पर गुस्से का इजहार करते हुए बाद में बात करने को कहा lसाथियों यही है फासीवाद , यही है संघवाद , उठती आवाज को दबाने की कोशिश lMustaqim Siddiqui
राष्ट्रीय संयोजक
इंसाफ इंडिया l

बिहार पंचायत - नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ का एक दिवसीय धरना प्रदर्शन 17 जून को

बिहार पंचायत - नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ के प्रखण्ड अध्यक्ष मोहम्मद फ़िरोज़ आलम ने जानकारी दी है कि सरकार की दोहरी नीति एवं शिक्षा और शिक्षक विरोधी नीति के खिलाफ बिहार पंचायत - नगर प्रारंभिक शिक्षक संघ राज्य ईकाई के आह्वान पर 17 जून को जिला मुख्यालय पर एक दिवसीय धरना प्रदर्शन दिया जाएगा।                        
इसी क्रम में अम्बेडकर स्थल डुमरा, सीतामढी, में 10:00 धरना में भाग लेने की गुजारिश शिक्षक, शिक्षिकाओं से की है।
धरना प्रदर्शन के निम्न विन्दु हैं :-
विगत कई महीनों से लंबित वेतन भुगतान ,   समान काम- समान वेतन,  सेवाशर्त का प्रकाशन,  बच्चों को पाठ्य पुस्तक उपलब्ध कराना आदि।

बी एम सी मकतब परिहार में दो दीनी चक धूक-चक धूक समर कैंप का आग़ाज़

जिला साक्षरता सीतामढ़ी के आदेशालोक में6 से14 आयु वर्ग के बच्चों और उनके माताओं के लिए दो दीनी चक धूम-चक धूम समर कैंप का आग़ाज़ प्रधानाध्यापक मोहम्मद शमीम अंसारी, प्रखण्ड कार्यक्रम समन्वयक अर्चना कुमारी के आर पी वीरेन्द्र यादव और बी आर पी मारूफ आलम ने चिराग़ रौशन कर किया मौके पर सी आर सी सी मोहम्मद इसराफिल अंसारी, प्रखण्ड लेखा समन्वयक दुखा बैठा मौजूद थे।समर कैंप 14 जून तक चलेगा।

Breaking News :-विधुत के ज़द में आने से लाईन मैन अनिल कुमार सिंह की मौत

परिहार सीतामढ़ी।परिहार चौक से दक्षिण परिहार क़ब्रिस्तान के निकट ट्रांसफॉर्मर पर फ्यूज़ ठीक करने के दौरान विधुत के ज़द में आने से लाईन मैन अनिल कुमार सिंह की मौत हो गई ।बताया जाता है कि अंसारी मुहल्लाह का फेज़ डाऊन चल रहा था उसी को ठीक करने के लिए सिरसिया फीडर से शॉर्ट डाऊन लेकर ट्रांसफॉर्मर पर चढ़ा था ट्रांसफॉर्मर पर चढ़ने के कुछ ही देर बाद लाईन दे देने के कारण करेंट लगने से मौके ए वारदात पर ही मौत हो गई।अनिल कुमार सिंह सहरगमा निवासी काफी मिलन साल आदमी थे इनके दर्दनाक मौत से इलाके में शोक की लहर दौड़ गई और देखने के लिए चारों तरफ से लोग दौड़ पड़े

दर्जा उस्तानिया का इम्तिहान 17 जुलाई से

प्रखण्ड स्तरीय चक धूम-चक धूम 2017 समर कैंप कार्यशाला आयोजित

प्रखण्ड स्तरीय चक धूम-चक धूम कार्यशाला आयोजित

बिहार।सीतामढ़ी।परिहार प्रखण्ड अन्तर्गत प्रखण्ड स्तरीय चक धूम-चक धूम 2017 समर कैंप के सफल आयोजन के लिए प्रखण्ड संसाधन केंद्र परिहार के प्रशिक्षण कक्ष में प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारी परिहार राम सेवक राम की अध्यक्षता में  कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें प्रखण्ड कार्यक्रम समन्वयक अर्चना कुमारी साक्षर भारत, प्रखण्ड साधन सेवी कौशलेन्द्र कुमार कर्मेन्दु ,शमीम अंसारी, मारूफ आलम, सी आर सी सी इसराफिल अंसारी, बी एम सी मकतब के प्रधानाध्यापक शमीम अंसारी, सहायक फखरुल अंसारी, लेखा समन्वयक दुखा बैठा, टोला सेवक, तालिमी मरकज़ शिक्षा स्वयं सेवी, पंचायत लोक शिक्षण केन्द्र के प्रेरक आदि उपस्थित थे।

11 जून 2017 रविवार को होगी प्रदेश टोला सेवक संघ की बैठक

बिहार प्रदेश टोला सेवक संघ पटना की एक आवश्यक बैठक 11जून 2017 रविवार को
बहादुर पुर शांति निकेतन मध्य विद्यालय में प्रदेश अध्यक्ष ब्रह्मानन्द की अध्यक्षता में में आहूत की गई है।
प्रदेश अध्यक्ष ने बताया कि बैठक बहुत ही अहम और गंभीर है बैठक में अगामी कार्य की रूप रेखा तैयार किया जाएगा।
सभा स्थल पर पहुँचने का पता:- पटना जंक्सन से  टेम्पू या बस पकड़ कर राजेन्द्र नगर ,पटना सीटी,अगम कुँआ या भूतनाथ जाने वाली पकड़ कर बहादुर पुल के पास उतड़, पुल पर चढ उत्तर की ओर आ जाना है वहाँ दूर्गा मंदिर के पास किसी से भी पूछ लेना है कि सरकारी विद्यालय शांति निकेतन कहाँ है कोई बता देगा ।
विशेषः  9304048103 विनोदजी , 7654477788 राकेश रौशन जी ,या 9162899470 नम्बर पर संम्पर्क कर सकते हैं।