हमदम

गुल खिलेगा बाग़बां अपना होगा ।
गोद में सर निगहबान अपना होगा ।।
        आसमान में चाॅद रात अपनी होगी।
       बात हम दोनों की और रूत अपना होगा।
प्यार मोहब्बत की बातें होंगी    ।
जहां में अमर प्रेम अपना होगा  ।।
                                        

                                  मोहम्मद कमरे आलम

Post a Comment

Popular posts from this blog

तालिमी मरकज़ के शिक्षा स्वयं सेवक राजनीती का शिकार न बने

शिक्षक भिखारी महतो जिसने इन्दरवा विद्यालय की तस्वीर बदल दी

Breaking News :-विधुत के ज़द में आने से लाईन मैन अनिल कुमार सिंह की मौत