Skip to main content

Parihar block sitamarhi ke vidyalay bhawan nirman me aniymitta ---------------------------- To, The Director BEPC SSA PATNA Sir, Block parihar sitamarhi me TS(MR.MITHILESH MISHRA) aur JE(MR.SHAYAM NARAYAN BHAGAT) ki mili bhagt se gunwattavihin vidyalay bhavan ka nirman ho raha hai ek bhi vidyalay bhavan nirman me paraklan ka anupalan nahi kiya jata hai maloom ho ki JE Mr.bhagat ke duyara bholwas bhi block me ban rahe vidyalay bhawan ka nirakshan aur parvwkshan nahi kiya jata hai distt.headquater me hi baith kar suwidhashulk parapt kar MB kar diya jata hai jis abhikarta ke duyara subhidhashulk nahi pahuchaya jata hai us ka MB nahi kiya jata hai TS aur JE ko sirf subhidhashulk se matlab hai chahe bhawan jaisa bhi banaya jaye jin ke duyara bhawan nirman sahi dhang se kiya jata hai aur shulk nahi diya jata hai to MB nahi kiya jata agar kiya bhi jata hai to katauti kar diya jata hai atah munasib karwai karne ka kasht karein Vishwasbhajan Md Qamre Alam Distt.president Bhartiye minoritiese suraksha mahasang sitamarhi Mb.9199320345 -----------------------

Paisa nahi dene ke karan mujh ko akshar aanchal yojna se nahi jora gaya mai to ye smjha ki jab sarkar ka aadesh hai to sabhi talimi markaz ko jora hi jayega magar soochna galat sabit huya mai sarkar ke "o "toolrance ka hissa bana aur khamiyaza bhugatna par raha hai mai likhte likhte thak gaya huin parantu kahi se koi karwai nahi hui aur mujhe insaf nahi mil pa raha ha- sir, Mai Md Qamre Alam s/o Md Nadim Alam At.Ekdandi PO.Parihar Distt.Sitamarhi (Bihar) Pin843324 Mobile No.9199320345 Feb 2010 se talimi markaz kendre 21/Parihar , Asthan-Md Nadim Alam ka darwaza Ekdandi , PS Ekdandi urdu kanya parihar Blocke Parihar Distt.Sitamarhi Bihar pin843324 par Talimi markaz EVS ke rup me karjrat tha 10 December 2012 se pahle Talimi markaz ka sanchalan AIE/SSA BEP sitamarhi ke tehat ho raha tha AIE/SSA BEP sitamarhi ne Feb 2010 se karj kar rahe talimiarkaz Ke EVS ko March  2012 Tak ka mandey bhugtan kiya. 10December 2012 se bihar sarkar ke aadesh se Talimi markaz kendre ka sanchalan jan shiksha nideshalay shiksha vighag bihar patna ke niyantranadhin kar diya gaya . Talimi markaz ka sanchalan jan shiksha ke adhin hone ke bad DPO saksharta sitamarhi karyalay duyara Feb 2010 se karjrat talimi markaz ke EVS ko July 2013 me do dini parshkshan de kar mukhmantri akshar anchal yojna se jodh diya paranto parihar blocke me Feb 2010se karjrat talimi markaz ke EVS ko do dini parshikshan Tatkalin DPO saksharta sitamarhi Mr.Asghar Ali duyara nahi dilwaya gaya aur nhi mukhmantri akshar anchal yojna se jodha gaya jis me ek EVS mai bhi hun. Kindly DPO SAKSHARTA SITAMARHI KO AKSHAR ANCHAL SE JORNE KA ADESH DIYA JAYE  Tatkalin DPO SAKSHARTA SITAMARHI MR.ASGHAR ALI KE GHAIRZIMMEDARANA KARKARDGI KI WAJAH SE 2010 ME TALIMI MARKAZ ME KAM KAR RAHE PARIHAR BLOCK KE TALIMI MARKAZ EVS bhookmari ke shikar hain.
Post a Comment

Popular posts from this blog

सीतामढ़ी महादेवपट्टी गाँव में हुए गैस लीक काण्ड में झुलसे एक और जख्मी मुकेश पासवान की मौत/मृतक और पीड़ित परिवार को मदद नही

मोहम्मद दुलारे
__________
परिहार(सीतामढ़ी)।महादेवपट्टी गाँवमें हुए गैस लीक काण्ड में झुलसे एक और जख्मी मुकेश पासवान की मौत शनिवार को एसकेएमसीएच मुजफ्फरपुर में हो गई। इस प्रकार इस घटना में अब तक मरने वालों की संख्या 3 हो गई है। मुकेश से पहले 31 अक्टूबर की रात रामप्रवेश पटेल और 3 नवंबर को मुकेश की 3 वर्षीया भतीजी राधा की मौत भी इलाज के दौरान एसकेएमसीएच में हो गई थी। यहाँ बता दें कि छठ पूजा से एक दिन पूर्व 25 अक्टूबर की रात महादेव पट्टी के मुकेश पासवान के घर में खाना गरम करने के दौरान पहले से लीक गैस में अचानक आग लग गया था। इस घटना में मुकेश सहित परिवार के 11 लोगों के अलावा पड़ोसी रामप्रवेश पटेल भी झुलसकर गंभीर रुप से जख्मी हो गए थे। घायलों को ग्रामीणों एवं जनप्रतिनिधियों की मदद से स्थानीय पीएचसी परिहार में भर्ती कराया गया था,बाद में सभी घायलों को एसकेएमसीएच मुजफ्फरपुर रेफर कर दिया गया था। जिनमें से अब तक 3 लोगों की मौत हो चुकी है। इस घटना से गाँव में मातमी सन्नाटा पसरा हुआ है।तीन मौत के बाद टूटा भरोसा ः एसकेएमसीएच में एक-एक कर 3 घायलों की मौत के बाद  परिजनों का सब्र जवाब दे गया है। परिजनो…

तालिमी मरकज़ के शिक्षा स्वयं सेवक राजनीती का शिकार न बने

बिहार प्रदेश के सभी तालिमी मरकज़  साथियों  व्हाट एप्प पर बिना मतलब बहस ,इल्ज़ाम तराशी से कुछ हासिल होने वाला हो तो बतलाये ।इस फालतू के बहस से कुछ हासिल होने को नही है लिहाज़ा खामखा के बहस से बचा जाये।
तालिमी मरकज़ हों या उत्थान केंन्द्र के साथी सभों की ख्वाहिश है कि उनको सरकार राज्य कर्मी घोषित कर वेतनमान दे मगर ज़रा सोचें क्या सरकार ये माँग  तालिमी मरकज़ और उत्थान केंन्द्र को देने जा रही है ?
सोचने वाली बात ये है कि जब सरकार तालिमी मरकज़ और उत्थान केंन्द्र के कर्मी को निविदा कर्मी और नियोजित मानने को तैयार नही -------
ऐसे हालात में हमारे तालिमी मरकज़ के साथी ये भ्रम पाले हुए हैं कि सरकार निश्चय यात्रा के खात्मा पर तश्त में पेश कर बहुत बड़ी चीज पेश करने जा रही है इस लिए सरकार के सामने सांकेतिक तौर पर भी बैठक कर अपनी कोई माँग न रखें। और तरह तरह के मिसाल पेश कर डराया जा रहा है जो ग़ैर मुनासिब है।
आप ये कान खोल कर सुन लें आप की सेवा 60 साल होगी ये संकल्प में नही बल्कि सरकार का ये कहना है कि 60 साल तक सेवा लेगी।आपने जो अपने ख्वाब व ख्याल में पाल रखा है क्या वह बिना क़ुर्बानी के हासिल किया जा सकता है…

शिक्षक भिखारी महतो जिसने इन्दरवा विद्यालय की तस्वीर बदल दी

रितु जायसवाल एक सरकारी विद्यालय और एक शिक्षक ऐसा भी!
बिहार! एक ऐसा राज्य जो अपनी ऐतिहासिक गौरवगाथा के साथ साथ सरकारी शिक्षा तंत्र के बदहाली केलिए भी जाना जाता है। प्राथमिक, माध्यमिक, उच्च शिक्षा, सब के हालात दयनीय। माने न माने पर यह एक हकीकत है जिससे न मानने वाले भी अंदर ही अंदर सहमत होते हैं। कोशिश में लगी रहती हूँ की कम से कम पंचायत की मुखिया हूँ तो अपने पंचायत में शिक्षा की तस्वीर बदले पर बदलना तो दूर, तस्वीर बनती तक नहीं दिख रही। अपने पंचायत में जब विद्यालय नहीं मिला (विद्यालय हकीकत में तो खाना खाने का मेस बन गया है) तब थक कर ढूंढने निकली की कहीं तो कोई शिक्षक या विद्यालय होगा जहाँ हकीकत में बच्चों को "विद्यालय" और "शिक्षक" जैसे महान शब्द का मतलब का एहसास होता होगा। तो इस तलाश में मुलाक़ात हुई सोनबरसा के एक पत्रकार बीरेंद्र जी से जो जब मिलते थे तब यही कहते थे की इंदरवा स्कुल देखने कब चलिएगा? इस प्रश्न में उनकी उत्सुकता देखने योग्य रहती थी जैसे वो कुछ बड़ा ही अद्भुत चीज़ दिखाना चाहते हों। 4 से 5 बार उन्होंने कहा पर किसी न किसी कारण से नहीं ही जा पाई। पर आखिरकार एक दि…