Skip to main content

अशरफ स्थानवी का मुस्लिम मतदाताओं से विशेष आग्रह

बिहार पंचायत राज चुनाव २०१६, १० चरणों में होना है पहला चरण पूरा कर लिया गया शेष ९ चरणों में चुनाव होना है ये चुनाव होना है ,पंचायती राज व्यवस्था का मुख्य उद्देश्य है ग्रामीणों का विकास, सशक्तिकरण, पंचायतो का विकास ग्राम वासियों के माध्यम से हम अपने विकास का मार्ग प्रशस्त्र कर सकते हैं , अल्पसंख्यक मतदाताओं से विशेष आग्रह है कि कृपया कर पंथीय , जातीय मतभेद को भुला कर अल्पसंख्यक हितेषी उम्मीदवार को मुखिया , सरपंच और पंचायत समिति सदस्य निर्वाचित करें, विगत २०११ में संपन्न हुए पंचायत चुनाव में 8463 मुख्या में से मात्र 518 मुखिया ही निर्वाचित हो सके थे, हमारा प्रयास हो के भरी संख्या में अल्पसंख्यक समुदाय के लोग पंचायत राज वयवस्था में निर्वाचित हों -

मुत्तहिद हो तो बदल दोगे निज़ाम-ए-आलम
मुंतशिर हो तो मरो, शोर मचाते क्यों हो !

अशरफ अस्थानवी

مسلم رائے دہندگان سے خصوصی اپیل
بہار پنچایتی انتخاب 2016 جاری ہے ۔ 10 مرحلوں میں ہو نے والا اس انتخاب کا پہلا مر حلہ گزر چکا ہے۔ بقیہ9 مراحل میں الکشن ہو نے ہیں ۔ گذشتہ 2011 کے پنچایت انتخابات میں 8463 مکھیا کے عہدے پر محض 512 مسلم امید وار کامیاب ہو سکے تھے۔ 22بلاک پرمکھ اور 4 اضلاع کے ضلع پریشد چیئر مین مسلمان منتخب ہوئےتھے جو کہ آبادی کے تناسب میں بہت کم ہے ۔ براہ کرم مسلکی ، نظریاتی اور ذات پات کے اختلافات کو فراموش کر کے کلمہ وحدت کی بنیاد پر متحد ہو کر ملی جذبے سے سرشار صاف ستھرے شبیہہ کے امید وار کو منتخب کر کے اپنا ملی فریضہ انجا م دیں ۔ ملی رہنمائوں اور ائمہ مساجد سے گذارش ہے کہ وہ اس اہم موضوع پر ملت کی رہنمائی کریں ۔
متحد ہو تو بدل دوگے نظام عالم
منتشر ہو تو مرو شور مچاتے کیوں ہو
اشرف استھانوی

Post a Comment

Popular posts from this blog

सीतामढ़ी महादेवपट्टी गाँव में हुए गैस लीक काण्ड में झुलसे एक और जख्मी मुकेश पासवान की मौत/मृतक और पीड़ित परिवार को मदद नही

मोहम्मद दुलारे
__________
परिहार(सीतामढ़ी)।महादेवपट्टी गाँवमें हुए गैस लीक काण्ड में झुलसे एक और जख्मी मुकेश पासवान की मौत शनिवार को एसकेएमसीएच मुजफ्फरपुर में हो गई। इस प्रकार इस घटना में अब तक मरने वालों की संख्या 3 हो गई है। मुकेश से पहले 31 अक्टूबर की रात रामप्रवेश पटेल और 3 नवंबर को मुकेश की 3 वर्षीया भतीजी राधा की मौत भी इलाज के दौरान एसकेएमसीएच में हो गई थी। यहाँ बता दें कि छठ पूजा से एक दिन पूर्व 25 अक्टूबर की रात महादेव पट्टी के मुकेश पासवान के घर में खाना गरम करने के दौरान पहले से लीक गैस में अचानक आग लग गया था। इस घटना में मुकेश सहित परिवार के 11 लोगों के अलावा पड़ोसी रामप्रवेश पटेल भी झुलसकर गंभीर रुप से जख्मी हो गए थे। घायलों को ग्रामीणों एवं जनप्रतिनिधियों की मदद से स्थानीय पीएचसी परिहार में भर्ती कराया गया था,बाद में सभी घायलों को एसकेएमसीएच मुजफ्फरपुर रेफर कर दिया गया था। जिनमें से अब तक 3 लोगों की मौत हो चुकी है। इस घटना से गाँव में मातमी सन्नाटा पसरा हुआ है।तीन मौत के बाद टूटा भरोसा ः एसकेएमसीएच में एक-एक कर 3 घायलों की मौत के बाद  परिजनों का सब्र जवाब दे गया है। परिजनो…

तालिमी मरकज़ के शिक्षा स्वयं सेवक राजनीती का शिकार न बने

बिहार प्रदेश के सभी तालिमी मरकज़  साथियों  व्हाट एप्प पर बिना मतलब बहस ,इल्ज़ाम तराशी से कुछ हासिल होने वाला हो तो बतलाये ।इस फालतू के बहस से कुछ हासिल होने को नही है लिहाज़ा खामखा के बहस से बचा जाये।
तालिमी मरकज़ हों या उत्थान केंन्द्र के साथी सभों की ख्वाहिश है कि उनको सरकार राज्य कर्मी घोषित कर वेतनमान दे मगर ज़रा सोचें क्या सरकार ये माँग  तालिमी मरकज़ और उत्थान केंन्द्र को देने जा रही है ?
सोचने वाली बात ये है कि जब सरकार तालिमी मरकज़ और उत्थान केंन्द्र के कर्मी को निविदा कर्मी और नियोजित मानने को तैयार नही -------
ऐसे हालात में हमारे तालिमी मरकज़ के साथी ये भ्रम पाले हुए हैं कि सरकार निश्चय यात्रा के खात्मा पर तश्त में पेश कर बहुत बड़ी चीज पेश करने जा रही है इस लिए सरकार के सामने सांकेतिक तौर पर भी बैठक कर अपनी कोई माँग न रखें। और तरह तरह के मिसाल पेश कर डराया जा रहा है जो ग़ैर मुनासिब है।
आप ये कान खोल कर सुन लें आप की सेवा 60 साल होगी ये संकल्प में नही बल्कि सरकार का ये कहना है कि 60 साल तक सेवा लेगी।आपने जो अपने ख्वाब व ख्याल में पाल रखा है क्या वह बिना क़ुर्बानी के हासिल किया जा सकता है…

शिक्षक भिखारी महतो जिसने इन्दरवा विद्यालय की तस्वीर बदल दी

रितु जायसवाल एक सरकारी विद्यालय और एक शिक्षक ऐसा भी!
बिहार! एक ऐसा राज्य जो अपनी ऐतिहासिक गौरवगाथा के साथ साथ सरकारी शिक्षा तंत्र के बदहाली केलिए भी जाना जाता है। प्राथमिक, माध्यमिक, उच्च शिक्षा, सब के हालात दयनीय। माने न माने पर यह एक हकीकत है जिससे न मानने वाले भी अंदर ही अंदर सहमत होते हैं। कोशिश में लगी रहती हूँ की कम से कम पंचायत की मुखिया हूँ तो अपने पंचायत में शिक्षा की तस्वीर बदले पर बदलना तो दूर, तस्वीर बनती तक नहीं दिख रही। अपने पंचायत में जब विद्यालय नहीं मिला (विद्यालय हकीकत में तो खाना खाने का मेस बन गया है) तब थक कर ढूंढने निकली की कहीं तो कोई शिक्षक या विद्यालय होगा जहाँ हकीकत में बच्चों को "विद्यालय" और "शिक्षक" जैसे महान शब्द का मतलब का एहसास होता होगा। तो इस तलाश में मुलाक़ात हुई सोनबरसा के एक पत्रकार बीरेंद्र जी से जो जब मिलते थे तब यही कहते थे की इंदरवा स्कुल देखने कब चलिएगा? इस प्रश्न में उनकी उत्सुकता देखने योग्य रहती थी जैसे वो कुछ बड़ा ही अद्भुत चीज़ दिखाना चाहते हों। 4 से 5 बार उन्होंने कहा पर किसी न किसी कारण से नहीं ही जा पाई। पर आखिरकार एक दि…