Skip to main content

भाषा और अभिव्यक्ति पर पाबंदी

महजीं
-----------
धीरे-धीरे भाषा और अभिव्यक्ति पर लगता जा रहा है अंकुश और लोगों को सेल्फी से फुर्सत नहीं है।

"नाम गुम जाएगा, चेहरा ये बदल जाएगा, मेरी आवाज़ ही मेरी पहचान है, गर याद रहे तुम्हें "

अमेरिका विश्व की सबसे बड़ी महाशक्ति के रूप में है। लेकिन वो किन बुनियादी ढांचों पर शक्तिशाली बना है राज़ किसी से छुपा नहीं। भाषा, समुदाय, धर्म, सभ्यता, संस्कृति, मनुष्यता, सभी में परिवर्तन किया, भिड़ाया, द्वन्द्व की स्थितियां उत्पन्न की अपने लाभ के लिए। अपना साम्राज्यवाद विस्तृत करने के लिए दमन किया, दूसरे देशों के संसाधनों को लूट रहा है, आज तक। अन्य देशों के लोग उसकी दमनकारी और आर्थिक नीतियों से खुश नहीं हैं, अमेरिका के ही लोग जो निम्न वर्ग से हैं ज़मीन से जुड़े हुए हैं वो भी उसकी थोपी हुई नीतियों से परेशान हैं। अमेरिका अपनी बनाई गई नीतियों को दूसरों पर सिर्फ थोपता आया है, कभी ख़ुद अम्ल नहीं किया उनपर, विरोध करने वालों को भी दबाता आया है, जो उसके ख़िलाफ़ बोलने की कोशिश करेगा उसकी ज़ुबान बंद कर दी गई, लेकिन क्या हुआ भाषा अभिव्यक्ति पर अंकुश लगाने का अंजाम? सबको मालूम है । गूंगा आदमी भी बिना ज़ुबान से इक़रार किये ख़ुदा पर ईमान लाता है, रखता है, अपनी अभिव्यक्ति को हाथ पैरों आँखों से ज़हिर करता है। और समझने वाले समझ भी जाते हैं । अमेरिका ने जब अभिव्यक्ति पर प्रतिबंध लगाया तब भी यही हुआ था, लोगों ने हाथ पैरों जूतों से अभिव्यक्त करना शुरू कर दिया। अब भारत भी अगर भाषा अभिव्यक्ति की सीमाओं को सीमित करने की कोशिश कर रहा है, वर्तमान भारत की संघी सरकार भी अब इसी रास्ते पर चल निकली है।  असमानताओं के आधार पर, दमन शोषण के आधार पर शक्तिशाली बनने का सपना देख रहा है, निम्न, वर्ग, मध्यवर्ग, किसान ग़रीब मज़दूर महिलाएं अब चर्चा का विषय नहीं रही, और जो चर्चा ज़ारी रखना चाहते हैं, उनके मुँह बंद करने की कोशिश की जा रही हैं, धिरे - धिरे तरह - तरह के परोपेगेंडा के द्वारा अपनी नीतियों को थोपा जा रहा है, ऊपरी सतह पर कुछ और दिखाया जा रहा है, और अन्दरूनी मुआमले कुछ और तय किये जा रहे हैं।वर्तमान सरकार द्वारा पूंजीपतियों की भाषा को फरोग़ दिया रहा हैं और ग़रीब, मज़दूर, मज़लूम, तलबा की भाषा को दबाने की कोशिश की जा रही है । जनता अब इतनी बेवकूफ भी नहीं है, सोशल मीडिया एक अच्छा खासा आईना है। पोल खोलकर रख देता है सबके सामने। इतिहास गवाह है जब जब ज़ुंबा पर क़ुफ्ल (ताला ) लगाने की कोशिश की गई शैलाब आया इनक़लाब आया।

जूता" लैदर का हो, या, रेक्सीन, कपड़े, स्पोर्ट्स, लेडीज, जेन्टस, जब तक शौरूम में है, इसकी पेहचान, बाटा, ऐक्शन, ऐडीडाज है.. फुटपाथ पर है, तो ये, 100 का, 200,300,400,का है बाबू जी... और, जब पांव में है, तो, उच्च वर्ग, मध्यवर्ग, निम्नवर्ग है.. और, जब, मुँह पर पड़ता है न  भईया... तब, इसके कमाल, देखने लायक हैं... सीधा, अख़बार में, टीवी में, पहुंचता है... जूता मारना, और.. जूता खाना, बड़ा दम चाहिए, जूता खाने वाला भी, मामूली नहीं.. और, जूता, मारने वाला भी मामूली नहीं.. जैदी ने, मारा था, बुश के मुँह पर जूता... दस साल, ज़ेल काटकर आया बाहर.... कितना, निडर था वो आदमी, जिसने बुश के मुँह पर जूता मारा... विश्व की सबसे बड़ी महाशक्ति के ऊपर जूता मारा....  केजरीवाल जी भी जूते का स्वाद चख़ चूके हैं... और, आजकल तो, संसद की बहस भी, जूते, चप्पलों से चलती है... किसी ने लिखा था, निबंध, मुझे याद नहीं अब, साहित्यकार की रचना है , 'प्रेमचंद के फटे जूते'  जूता आदमी की, औकात भी जाहिर करता है.. जूते पर फिल्म बनी, शकालाका बूम बूम, जूते के माध्यम से, देश के हालात, गरीबी, बेरोजगारी , गैरबराबरी, आतंक का हिस्सा बनता आदमी, सबकुछ ब्यां किये हैं। कभी-कभार अभिव्यक्ति का माध्यम भी बनाना पड़ता है, जब ज़ोर - ओ - ज़ुल्म बढ़ जाता है।
सारे रास्ते बंद किये जाते हैं तो दूसरा चुन लिया जाता है । अभिव्यक्ति के लिए जब शब्दों के माध्यम बंद किये जाएंगे तब मज़बूरी में स्पर्श के माध्यम चुने जाएंगे। और ऐसी स्थितियों के लिए सरकार जिम्मेदार होगी। क्योंकि लोगों में अब सब्र (संयम )  बर्दाश्त नहीं। ऐसी स्थिति को उत्पन्न होने से रोकने के लिए, बेहतर इसी में है कि सरकार को अपने विचारों, फैसलों, नीतियों में तर्मीम(बदलाव ) करे।

मेहजबीं

Post a Comment

Popular posts from this blog

सीतामढ़ी महादेवपट्टी गाँव में हुए गैस लीक काण्ड में झुलसे एक और जख्मी मुकेश पासवान की मौत/मृतक और पीड़ित परिवार को मदद नही

मोहम्मद दुलारे
__________
परिहार(सीतामढ़ी)।महादेवपट्टी गाँवमें हुए गैस लीक काण्ड में झुलसे एक और जख्मी मुकेश पासवान की मौत शनिवार को एसकेएमसीएच मुजफ्फरपुर में हो गई। इस प्रकार इस घटना में अब तक मरने वालों की संख्या 3 हो गई है। मुकेश से पहले 31 अक्टूबर की रात रामप्रवेश पटेल और 3 नवंबर को मुकेश की 3 वर्षीया भतीजी राधा की मौत भी इलाज के दौरान एसकेएमसीएच में हो गई थी। यहाँ बता दें कि छठ पूजा से एक दिन पूर्व 25 अक्टूबर की रात महादेव पट्टी के मुकेश पासवान के घर में खाना गरम करने के दौरान पहले से लीक गैस में अचानक आग लग गया था। इस घटना में मुकेश सहित परिवार के 11 लोगों के अलावा पड़ोसी रामप्रवेश पटेल भी झुलसकर गंभीर रुप से जख्मी हो गए थे। घायलों को ग्रामीणों एवं जनप्रतिनिधियों की मदद से स्थानीय पीएचसी परिहार में भर्ती कराया गया था,बाद में सभी घायलों को एसकेएमसीएच मुजफ्फरपुर रेफर कर दिया गया था। जिनमें से अब तक 3 लोगों की मौत हो चुकी है। इस घटना से गाँव में मातमी सन्नाटा पसरा हुआ है।तीन मौत के बाद टूटा भरोसा ः एसकेएमसीएच में एक-एक कर 3 घायलों की मौत के बाद  परिजनों का सब्र जवाब दे गया है। परिजनो…

तालिमी मरकज़ के शिक्षा स्वयं सेवक राजनीती का शिकार न बने

बिहार प्रदेश के सभी तालिमी मरकज़  साथियों  व्हाट एप्प पर बिना मतलब बहस ,इल्ज़ाम तराशी से कुछ हासिल होने वाला हो तो बतलाये ।इस फालतू के बहस से कुछ हासिल होने को नही है लिहाज़ा खामखा के बहस से बचा जाये।
तालिमी मरकज़ हों या उत्थान केंन्द्र के साथी सभों की ख्वाहिश है कि उनको सरकार राज्य कर्मी घोषित कर वेतनमान दे मगर ज़रा सोचें क्या सरकार ये माँग  तालिमी मरकज़ और उत्थान केंन्द्र को देने जा रही है ?
सोचने वाली बात ये है कि जब सरकार तालिमी मरकज़ और उत्थान केंन्द्र के कर्मी को निविदा कर्मी और नियोजित मानने को तैयार नही -------
ऐसे हालात में हमारे तालिमी मरकज़ के साथी ये भ्रम पाले हुए हैं कि सरकार निश्चय यात्रा के खात्मा पर तश्त में पेश कर बहुत बड़ी चीज पेश करने जा रही है इस लिए सरकार के सामने सांकेतिक तौर पर भी बैठक कर अपनी कोई माँग न रखें। और तरह तरह के मिसाल पेश कर डराया जा रहा है जो ग़ैर मुनासिब है।
आप ये कान खोल कर सुन लें आप की सेवा 60 साल होगी ये संकल्प में नही बल्कि सरकार का ये कहना है कि 60 साल तक सेवा लेगी।आपने जो अपने ख्वाब व ख्याल में पाल रखा है क्या वह बिना क़ुर्बानी के हासिल किया जा सकता है…

शिक्षक भिखारी महतो जिसने इन्दरवा विद्यालय की तस्वीर बदल दी

रितु जायसवाल एक सरकारी विद्यालय और एक शिक्षक ऐसा भी!
बिहार! एक ऐसा राज्य जो अपनी ऐतिहासिक गौरवगाथा के साथ साथ सरकारी शिक्षा तंत्र के बदहाली केलिए भी जाना जाता है। प्राथमिक, माध्यमिक, उच्च शिक्षा, सब के हालात दयनीय। माने न माने पर यह एक हकीकत है जिससे न मानने वाले भी अंदर ही अंदर सहमत होते हैं। कोशिश में लगी रहती हूँ की कम से कम पंचायत की मुखिया हूँ तो अपने पंचायत में शिक्षा की तस्वीर बदले पर बदलना तो दूर, तस्वीर बनती तक नहीं दिख रही। अपने पंचायत में जब विद्यालय नहीं मिला (विद्यालय हकीकत में तो खाना खाने का मेस बन गया है) तब थक कर ढूंढने निकली की कहीं तो कोई शिक्षक या विद्यालय होगा जहाँ हकीकत में बच्चों को "विद्यालय" और "शिक्षक" जैसे महान शब्द का मतलब का एहसास होता होगा। तो इस तलाश में मुलाक़ात हुई सोनबरसा के एक पत्रकार बीरेंद्र जी से जो जब मिलते थे तब यही कहते थे की इंदरवा स्कुल देखने कब चलिएगा? इस प्रश्न में उनकी उत्सुकता देखने योग्य रहती थी जैसे वो कुछ बड़ा ही अद्भुत चीज़ दिखाना चाहते हों। 4 से 5 बार उन्होंने कहा पर किसी न किसी कारण से नहीं ही जा पाई। पर आखिरकार एक दि…