इन्साफ पशंदों बिहार के बीहड़ से बलात्कार पीड़िता की माँ इन्साफ की आवाज़ लगा रही है

मुस्तकीम सिद्दीकी
----------------------------
मैं काजल की माँ हूँ , मैं नेत्रहीन एवं मजदूर हूँ , मैं बिहड़ में रहती हूँ , मेरी 8 साल की बेटी का ब्लात्कार कोसी नदी की तट पर सूर्य की रौशनी में मेरी झोपड़ी के सामने मकई के खेत के पास हुआ है , मैं गरीब हूँ , मैं कमजोर हूँ , मैं अकेली हूँ l

ब्लातकार करने वाला ठाकुर , दबंग और ज़मींदार है l ब्लात्कारी शक्तीशाली एवं राजनीतिक पकड़ वाला है , ब्लात्कारी एवं उसका पुरा समुदाय मेरी बेटी की ब्लातकार को झुटा साबित करने की लिये शासन एवं प्रशासन का साथ ले रहा है l

आजतक पुलिस हमारे घर पर जाँच पड़ताल के लिये नही आई , आजतक पुलिस ब्लात्कार के ज़गह पर बहे खुन को उठा कर नही ले गई , आजतक पुलिस ब्लात्कारी को गिरफतार नही कीl

बिहार सरकार , जनप्रतिनिधी एवं पुलिस ब्लात्कारी का साथ दे रही है , मैं समाज के ज़िम्मादार नागरिक , स्वंय सेवी संगठन , समाजिक संगठन , मानवधिकार संगठन, समाजिक कार्यकर्ता से अपील करती हूँ के एक नेत्रहीन, गरीब , मजदुर , असहाय माँ की 8 साल की बेटी के ब्लात्कारी को सजा दिलाने आगे आयें l

Post a Comment

Popular posts from this blog

तालिमी मरकज़ के शिक्षा स्वयं सेवक राजनीती का शिकार न बने

शिक्षक भिखारी महतो जिसने इन्दरवा विद्यालय की तस्वीर बदल दी

Breaking News :-विधुत के ज़द में आने से लाईन मैन अनिल कुमार सिंह की मौत