जानवरों और परिंदों से मोहब्बत करो

एक बार आप मुहम्मद साहब(सल्ल्लाह अलैहे व सल्लम) किसी सफर में जा रहे थे एक ऐसे मक़ाम पर पड़ाव किया जहानं परपरिंदों ने अंडा दिया था एक आदमी ने वह अंडा उठा लिया, चिड़िया बेक़रार हो कर पर् मार रही थी आप मुहम्मद साहब(सलल्लह् अलैहे व सल्लम) ने फ़रमाया किस ने इसका अंडा छीन कर तकलीफ पहुँचाई है उन साहब ने कहा या रसूलल्लाह मुझ से यह हरहत हुइ है आप मुहम्मद साहब सल्ल्लाह अलैहे व सल्लम ने कहा अंडे को वहीँ रख दो।

Post a Comment

Popular posts from this blog

तालिमी मरकज़ के शिक्षा स्वयं सेवक राजनीती का शिकार न बने

शिक्षक भिखारी महतो जिसने इन्दरवा विद्यालय की तस्वीर बदल दी

Breaking News :-विधुत के ज़द में आने से लाईन मैन अनिल कुमार सिंह की मौत