Sunday, October 29, 2017

परिहार प्रखण्ड के 1से 8 वर्ग के छात्रों को अभी तक नही मिली छात्रवृति और पोशाक राशि

 परिहार सीतामढ़ी।परिहार प्रखण्ड के प्राथमिक विद्यालय और मध्य विद्यालय में पढ़ने वाले छात्र छात्राओं को अभी तक वित्तीय वर्ष 2016 - 2017 का पोशाक और छात्रवृति राशि उनके के खाते में हस्तांतरित नही की गई है मगर अतिरिक्त प्रभार में प्रतिनियुक्त प्रखण्ड शिक्षा पदाधिकारी कार्रवाई करने के लिए तैयार नहीं हैं।

जमीयत उलमा ए हिन्द की कार्यकारिणी की बैठक संपन्न

नई दिल्ली। 28 अक्टूबर
जमीयत उलमा ए हिन्द की केंद्रीय कार्यकारिणी की बैठक केंद्रीय कार्यालय में मौलाना कारी सैयद मोहम्मद उस्मान मंसूरपुरी, अध्यक्ष जमीयत उलमा ए हिंद की अध्यक्षता में आयोजित की गई। इस बैठक में देश भर से जमीयत उलमा ए हिंद के लगभग दो हजार पदाधिकारियों, जिम्मेदारों और बुद्धिजीवियों ने शिरकत की।
इस अवसर पर जमीयत उलमा ए हिन्द के राष्ट्रीय सचिव मौलाना महमूद मदनी ने रिपोर्ट पेश करते हुए देश भर में साम्प्रदायिक शक्तियों के बयानों पर उत्तेजनापूर्ण जवाबी बयान और प्रतिक्रिया की राजनीति पर कड़ी आलोचना की और कहा कि एक साजिश के तहत देश के सौहार्दपूर्ण माहौल को खराब करने की कोशिश जा रही है, ताकि कि जनता का ध्यान बुनियादी और आवश्यक समस्याओं से हटा दिया जाए, जनता की बुनियादी समस्याएं जस की तस हैं और उन्हें अनावश्यक बातों से दिगभ्रमित किया जा रहा है। मौलाना मदनी ने दो टूक शब्दों में कहा कि देश में भय का वातावरण एवं भय की राजनीति नहीं चलने दी जाएगी।ं हमें किसी से डर नही है, न ही किसी के डराने से डरते हैं
मौलाना मदनी ने प्रतिक्रिया की राजनीति को भी सख्त हानिकारक बताया और कहा कि जिस अंदाज में साम्प्रदायिक शक्तियां बात करती हैं, उसी अंदाज में मुसलमानों में से कुछ लोग तुरंत प्रतिक्रिया देने लगते है, ऐसे लोग वास्तव में मुसलमानों के सबसे बड़े दुश्मन है, वह जानबूझ कर या अनजाने मंेे साम्प्रदायिक ताकतों के बिछाए हुए जाल में खुद भी फंसते हैं और पूरे देश को फंसाते हैं। उन्होने लोगों से कहा कि मैं देश के आम लोगों से अपील करता हूं कि वे खरे खोटे और दोस्त दुश्मन की पहचान करके अपने भविष्य को उज्ज्वल बनाने की कोशिश करें, हमें शत्रुओं के छल और अपनों की नादानी दोनों से बचना होगा।
मौलाना मदनी ने इस बात पर जोर दिया कि सरकार के बदलने से हालात नहीं बदलने, बल्कि खुद के बदलने से हालात बदलते हैं, मुसलमान अगर अल्लाह और उसके रसूल का दामन थाम ले तो कोई आए कोई जाए मुसलमान का एक बाल भी बांका नहीं होगा उन्होंने कहा कि हम यह समझते हैं मुसलमान को विभिन्न चुनौतियों का सामना है, लेकिन बड़ी चुनौती तो इस्लाम के सामने है और वह किसी बाहरी शक्ति से नहीं बल्कि स्वयं हमारे कार्यों और भूमिका से है। हमें अपने अंदर सुधार करना चाहिए, यदि हम बदल गए तो हम भी सुरक्षित होंगे और इस्लाम की भी रक्षा करने की शक्ति प्राप्त होगी। मोलाना मदनी ने दीनी तालीम को बढ़ावा देने और सामाजिक सुधार पर जोर देते हुए कहा कि बहुत सारे मुसलमान कलमा तक नहीं जानते, हमें उन्हें बचाने के लिए आगे आना होगा।
इस बीच केन्द्रीय कार्यकारिणी की बैठक मे देश और मिल्लत से संबंधित कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। देश के मौजूदा स्थिति और मुसलमानों की राजनीतिक, सामाजिक और शैक्षिक बदहाली के निवारण से संबंधित रणनीति भी तय की गई। सांप्रदायिक दंगों की रोकथाम संबंधित एक प्रस्ताव भी पेश किया गया जिसमें प्रभावी कानून बनाने पर जोर दिया गया। साथ ही इस बात पर गहरी चिंता जताई गई कि जमीयत उलेमा ए हिंद एवं शांतिप्रिय जनता और उनके मुखतलिफ प्रतिनिधियों के बार-बार अहृवान के बावजूद सांप्रदायिक दंगा नियंत्रण कानून बनाने की दिशा में किसी भी केंद्र सरकार ने कोई संजीदा प्रयास नहीं किया। अब तक सभी सरकारों ने विभिन्न बहानों और खतरों का बहाना बनाकर कानून मसौदा लागू करने से बचने का प्रयास किया है।
आतंकवाद के आरोप में निर्दोष लोगों की गिरफ्तारी के संदर्भ में सरकार से मांग की गई कि जिन अधिकारियों ने झूठे मुकदमे बनाए और उन पर आधारित उन्हें पदोन्नति दी गईं या सम्मान दिए गए वे सभी वापस लिए जाएं और उन के खिलाफ सख्त कानूनी कार्यवाही की जाए। जिन लोगों को बरसों जेल में रखा गया और उनका कोई आरोप साबित नहीं हुआ, सरकार उनके पुनर्वास की जिम्मेदारी ले।
राष्ट्रीय एकता को बढ़ावा देने और सांप्रदायिकता की रोकथाम के तरीके से संबंधित प्रस्ताव में इस बात को बहुत ही गंभीरता से महसूस किया गया कि कुछ प्रतिशत लोग सांप्रदायिक घृणा, वैमनस्यता फैलाकर अपने राजनीतिक लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए व्यवस्थित एवं सुनियोजित तरीके से मीडिया को आकर्षित किया गया और भ्रामक प्रचार एवं विचारों को जनता के बीच परोसने का काम किया। सरकार एवं उनके राजनीतिक संगठन अपनी राष्ट्रीय जिम्मेदारी पर ध्यान केंद्रित करें और पूर्वाग्रह से ऊपर उठकर केवल सार्वजनिक व्यवस्था, शांत वातावरण, सांप्रदायिक सद्भावना, सहिष्णुता और बहुआयामी विकास को बढ़ावा देने के लिए खुद को समर्पित करें। साथ ही एक दूसरे प्रस्ताव में जमीयत उलमा ए हिन्द ने मुसलमानों के तमाम फिरकों से अपील की है कि अपने अपने मसलकों पर कायम रहते हुए परस्पर साझा समझ के साथ माहौल को बनायें और मुसलमानों में एक सही सोच को पैदा कर बढ़ावा दें।
मुस्लिम वक्फ संपत्तियों से संबंधित एक महत्वपूर्ण प्रस्ताव में वक्फ संपत्तियों की बदहाली पर चिंता करते हुए मांग की गई कि सभी वक्फ बोर्ड के कार्यालयों में पूर्णकालिक स्टाफ नियुक्त किया जाए। आईएएस और आईपीएस की तर्ज पर भारतीय वक्फ सेवा का विशेष कैडर बनाया जाए। .यह भी मांग की गई कि वक्फ संपत्तियों के संबंध में एक सशक्त केंद्रीय मंत्रालय गठित किया जाए जिसका मंत्री भी मुसलमान हो, तथा वक्फ संपत्ति संबंधी सच्चर कमेटी की रिपोर्ट संसद में पेश की जाए।
इसके अलावा कानपुर शहर में कपड़ा मिलों और टीनरयों समस्याओं, दलित और मुस्लिम एकता से संबंधित रणनीति, मुस्लिम वक्फ, स्कूल के बच्चों पर विशेष धार्मिक अनुष्ठानों को अनिवार्य करने के व्यवहार, रोहिंग्या के पीड़ित मुसलमानों की वैश्विक स्तर पर समस्याओं से राहत के उपायों, इस्लामी समस्याओं, दीन व ईमान सुरक्षा और इस्लाम के संबंध में फैलाई जाने वाली गलतफहमी के निवारण और प्रभावी नियंत्रण रणनीति और इमारते शरैया स्थिरता, स्थाई शिविर आयोजन की आवश्यकता जैसे मुद्दों पर कार्यकारिणी में स्वीकृत किए गए। सुझावों एवं सिफारिशों पर कार्यकारिणी बैठक में अध्यक्ष ने अपनी मुहर लगाई।
आज की जनरल बाॅडी की बैठक में जमीयत उलमा ए हिन्द के दो उपाध्यक्षों का भी चयन किया गया। मुफ्ती खैरूल इस्लाम, आसाम, और मौलाना अमानुल्ला, महाराष्ट्र का उपाध्यक्ष पद पर चयन किया गया। आज की इस बैठक में सुबह साढ़े आठ बजे जमीयत उलमा ए हिन्द के राष्ट्रीय अध्यक्ष के हाथों ध्वजारोहण बैठक शुरू हुआ। आंदोलन अध्यक्षता मौलाना मतीनुल हक ओसामा कानपुरी ने पेश की, जबकि वार्षिक रिपोर्ट पेश की। बैठक देर शाम तक चली। समापन अध्यक्ष के दुआ कराने के बाद हुआ।
आज की बैठक में मौलाना बदरुद्दीन अजमल, मौलाना खालिद सैफल्लाह रहमानी, मौलाना सिद्दीक अल्लाह चैधरी अध्यक्ष जमीअत उलेमा पश्चिम बंगाल, मौलाना मतीनुल हक ओसामा, प्रोफेसर निसार अहमद अंसारी गुजरात, मुफ्ती मोहम्मद राशिद आजमी, मौलाना हाफिज नदीम सिद्दीकी, मुफ्ती इफ्तिखार अहमद कर्नाटक, मुफ्ती बिदालमगनी हैदराबाद, मौलाना मुहम्मद कासिम बिहार, मुफ्ती जावेद इकबाल बिहार, मुफ्ती सैयद मोहम्मद अफ्फान मंसूरपूरी, मौलाना सलमान बिजनौर, मोलाना नियाज अहमद फारूकी, हाफिज पीर शब्बीर अहमद आध्रा प्रदेश, मौलाना मोहम्मद रफीक गुजरात, मौलाना अब्दुल वाहिद खत्री राजस्थान, मौलाना मोहम्मद ध्वनि मन गढ़ी धन, मौलाना याहया मेवात, मौलाना अली हसन, जमीयत उलेमा हरियाणा, पंजाब, हिमाचल, मौलाना कारी शौकत अली, हाफिज बशीर अहमद असम, मौला न मंसूर काशनि तमिलनाडु, मौलाना मोहम्मद जाकिर कासमी महाराष्ट्र, मुफ्ती अहमद दीलह गुजरात, मौलाना शमसुद्दीन बिजली कर्नाटक, मौलाना अब्दुल कादिर असम, मौलाना सईद मणिपुर, मौलाना रहमतुल्ला कश्मीर, मोलाना जललुद्दीन अहमद, मौलाना अबू झारखंड, मौलाना कलीम उल्लाह खां कासमी, मोलाना डॉ मोहम्मद इस्लाम कासमी उत्तराखंड, मौलाना हकीम दीन कासमी, मौलाना मोहम्मद आबिद दिल्ली आदि ने भी अपने विचार रखे।

Saturday, October 28, 2017

महाशय,
सीतामढ़ी जिला में बिहार शिक्षा परियोजना अंतर्गत वैकल्पिक एंव नवाचारी शिक्षा कार्यक्रम के तहत वर्ष 2010 में तालीमी मरकज का संचालन किया गया था जो 2012 तक शिक्षा परियोजना सीतामढ़ी के अधीन था 10 दिसम्बर 2012 से बिहार सरकार के आदेश से जन शिक्षा निदेशालय शिक्षा विभाग बिहार पटना के अधीन कर दिया गया।
बिहार सरकार ने निर्णय लेकर कार्यरत और परियोजना द्वारा बंद कर दिए गए सभी तालीमी मरकज केंद्रों और टोला सेवको को महादलित,अल्पसंख्यक एवं अति पिछड़ा वर्ग अक्षर आंचल योजना में शिक्षा स्वयं सेवक के रूप में रखने का फ़ैसला किया ।मगर सीतामढ़ी जिला में सभी पूर्व तालीमी मरकज शिक्षा स्वयं सेवक को अवैध राशि नही देने के कारण तत्कालीन जिला कार्यक्रम पदाधिकारी साक्षरता एंव माध्यमिक शिक्षा सीतामढ़ी श्री असगर  अली ने मुख्यमंत्री अक्षर आंचल योजना में शिक्षा स्वयं सेवक के रूप में नही रखा जबकि उस समय के तत्कालीन प्रधान सचिव शिक्षा विभाग श्री अमर जीत सिन्हा ने पत्रांक-13/सा 2-18/2012 2670 दिनांक:- 03/12/12 निर्गत कर टोला सेवक एवं शिक्षा स्वयं सेवी की पहचान में लिखा कि-राज्य स्तर पर यह निर्णय लिया गया है कि  पूर्व के उत्थान केंद्र के टोला सेवक एवं तालीमी मरकज के शिक्षा स्वयं सेवक इस योजना में वी○टी○(शिक्षा स्वयं सेवक )का कार्य  करेंगे ।
------------------------------

जहाँ टोला सेवक/शिक्षा स्वयं सेवक नही हैं /जहाँ पूर्व में उत्थान केंद्र /तालीमी मरकज केंद्र पूर्व में संचालित ही नही हुए ऐसी जगहों के लिए स्वयंसेवी का चयन करने का निर्देश दिया गया था।बिहार शिक्षा परियोजना परिषद पटना बिहार के द्वारा सभी जिला कार्यक्रम पदाधिकारी साक्षरता एंव माध्यमिक शिक्षा को कार्यरत और पूर्व टोला सेवक एंव शिक्षा स्वयं सेवी की सूची उपलब्ध करा दी गई थी ।
(शिक्षा परियोजना द्वारा तालीमी मरकज केंद्र में शिक्षा स्वयं सेवक का चयन दो वर्ष के लिए किया जाता था) 
जिला सीतामढ़ी में जिला कार्यक्रम पदाधिकारी साक्षरता एंव माध्यमिक शिक्षा सीतामढ़ी कार्यालय ने संचालित उत्थान केंद्र और तालीमी मरकज केंद्र के टोला सेवक और तालीमी मरकज के शिक्षा स्वयं सेवक को दो दीनी प्रशिक्षण दिलाकर कर महादलित अल्पसंख्यक एवं अति पिछड़ा वर्ग अक्षर आंचल योजना में शिक्षा स्वयं सेवक के रूप में फरवरी 2013 में योगदान करवा कार्य लेना शुरू कर दिया ।
बिहार शिक्षा परियोजना सीतामढ़ी द्वारा बंद कर दिए गय (2010 से संचालित तालीमी मरकज केंद्र )शिक्षा स्वयं सेवक को मुख्यमंत्री अक्षर आंचल योजना में योगदान के लिए जिला कार्यक्रम पदाधिकारी साक्षरता एंव माध्यमिक शिक्षा सीतामढ़ी कार्यालय ने दलालों के माध्यम से 1000 रूपय की मांग पूर्व तालीमी मरकज शिक्षा स्वयं सेवक से की गई जिन स्वयं सेवक ने अवैध राशि दी उन को ही दो दीनी प्रशिक्षण दिलाकर जुलाई 2013 में मुख्यमंत्री अक्षर आंचल योजना से जोड़ा गया जिन शिक्षा स्वयं सेवक ने अवैध राशि नही दी उन शिक्षा स्वयं सेवक को वंचित रख कर पूर्व तालीमी मरकज शिक्षा स्वयं सेवक के रहते नये शिक्षा स्वयं सेवक की बहाली मोटी रक़म लेकर की गई /की जा रहीं है।जहाँ पूर्व में उत्थान केंद्र, तालीमी मरकज़ केंद्र का संचालन हुआ था वहाँ मुख्यमंत्री अक्षर आंचल योजना का संचालन नहीं किया जा रहा है।
-------------------------------
●●●अगर अवैध राशि की वसूली नही की गई है तो किस परिस्थिति में सूची रहते योगदान  से वंचित रखा गया  ?
-------------------------------
सीतामढ जिला में बिहार शिक्षा परियोजना द्वारा बन्द कर दिए गय तालीमी मरकज केंद्र को चालू रखने के लिए मैं मोहम्मद कमरे आलम माननीय मुख्यमंत्री बिहार श्री नीतिश कुमार अल्पसंख्यक मंत्री जनाब शाहिद अली खान शिक्षा मंत्री प्रशांत कुमार साही राज्य परियोजना निदेशक राहुल सिंह को 12/03/2013 को पत्र लिख कर चालू रखने का अनुरोध किया था ।
-------------------------------
बिहार विधान सभा सत्र में 15/03/2013 को माननीय सदस्य डा○तनवीर हसन के प्रश्न के उत्तर में मंत्री ने कहा था कि तालीमी मरकज व उत्थान केंद्र में पढ़ाई जारी रहेगी, केंद्र ने यह योजना बंद कर दी है,लेकिन राज्य सरकार ने अपने संसाधन से योजना को जारी रखने का निर्णय किया है।
----------------------------
मैं मोहम्मद कमरे आलम ने वंचित रखे गए पूर्व तालीमी मरकज शिक्षा स्वयं सेवी को दो दीनी प्रशिक्षण दिलाकर मुख्यमंत्री अक्षर आंचल योजना से जोड़ने के लिए दिनांक - 01/03/2014  ,15/03/2014 दिनांक 28/10/14,14/11/14,26/11/14,और 24/03/15 को जिला पदाधिकारी सीतामढ़ी से लेकर माननीय मुख्यमंत्री तक को आवेदन दिया था जिस के आलोक में श्री दीपक कुमार सिंह राज्य कार्यक्रम बिहार शिक्षा परियोजना परिषद पटना ने पत्रांक AIE/मु•मं•ज•दरबार /सीतामढ़ी /82-31/2007-08/2184 दिनांक 31/03/2014 के माध्यम से निदेशक जनशिक्षा शिक्षा विभाग बिहार पटना को मामले का निष्पादन अपने स्तर से करने का अनुरोध किया था लेकिन मामले का निष्पादन नहीं किया गया।
इस मामले को लेकर पुनः दिनांक 11/06/2016 को जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी सीतामढ़ी को आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाई शिकायत निवारण पदाधिकारी सीतामढ़ी ने 24/06/2016 को सुनवाई की तिथि निर्धारित कर आवेदक और लोक प्राधिकार को उपस्थित रह कर साक्षो के साथ पक्ष रखने का निदेश दिया।निर्धारित तिथि को दोनों पक्षों की बात सुनने के बाद जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी ने 11/06/2016 तक मेरा नाम अक्षर आँचल योजना से जोड़ने का आदेश लोक प्राधिकार सह ज़िला कार्यक्रम पदाधिकारी साक्षरता सीतामढ़ी को दिया।लोक प्राधिकार ने आदेश का अनुपालन कर पत्रांक 228 दिनांक 11/06/2016 निर्गत कर उक्त योजना में योगदान कर कार्य करने का आदेश दिया।मैं आदेश का अनुपालन कर संबंधित विद्यालय प्राथमिक विद्यालय एकडण्डी उर्दू कन्या परिहार ग्राम एकडण्डी पोस्ट परिहार ज़िला सीतामढ़ी बिहार में योगदान कर कार्य शुरू कर दिया मगर योगदान के पन्द्रह माह बीत जाने के बाद भी मानदेय राशि का भुगतान नही किया गया है।
अतः श्रीमान से अनुरोध है कि मानदेय राशि का भुगतान करने का आदेश देने की कृपा करें।
विश्वास भाजन
मोहम्मद कमरे आलम
शिक्षा स्वंय सेवी
तालीमी मरकज़
प्राथमिक विद्यालय एकडण्डी उर्दू कन्या परिहार
ग्राम एकडण्डी पोस्ट परिहार
अनुमंडल सीतामढ़ी सदर
ज़िला सीतामढ़ी बिहार
पिन 843324
मोबाइल 9199320345

Friday, October 27, 2017

ग़ुलामी की जंजीरों से बाहर निकलो

● गुलामी के पहले शूद्रों को धर्म से दूर रखा गया और आजादी के बाद धर्म से चप्का दिया गया ।
26 जनवरी 1950 से पहले रामायण, गीता,वेद,पुराण महाभारत जैसी पुस्तके ब्राह्मण ही पढते थे ।
26 जनवरी 1950 के बाद संविधान लागू होते ही वह सारी पुस्तकें ब्राह्मणो ने O B C , S C,S T को थमा दी और
खुद *संविधान* पढ़ने लगे।
संविधान वो आज भी पढ़ रहे हैं और हमारे लोगों ने संविधान उठा कर देखा तक नहीं।
वे वकील ,जज और नेता बन गये और हमारे समाज के लोग भक्त बन गये।
क्या ये विचारणीय प्रश्न नहीं है ?
इस लिये आप सभी भारत देश के नागरिकों से आनुरोध है कि संविधान को पढें और आगे बढें।
गीता रामायण पढने से आप I A S,
I P S, P C S, M B B S इंजीनियर नहीं बन सकते हो इस लिये अब समय आ गया है पाखण्डवाद से बाहर निकलने का ...वक्क्त रहते संभल जाओ,नही तो गुलामी की बेड़िया तुम्हारा इन्तजार कर रही है, फिर समय नहीं मिलेगा।
            

Thursday, October 26, 2017

छठ पर्व पर विशेष :-नर्म और सख़्त कैसे होता है छठ का ठेकुवा और ख़स्ता

महजबीं

नर्म और सख़्त कैसे होता है छठ का ठेकुवा और ख़स्ता

सर्दियों के गुलाबी मौसम में त्योहारों की आमद साथ लाती है मेहमान पकवान शादियों के पैग़ाम। आजकल बाज़ार में त्योहार से मुतालिक हर चीज़ बाआसानी से फराहम है तरह-तरह के तोहफे मिठाइयाँ सजावट के सामान होली की गुज़िया तिल के लड्डू रेडीमेड रंगोली इत्यादि। बाज़ार और टेक्नोलॉजी ने बहुत काम आसान कर दिया अब हर चीज़ हर जगह मिलती है और घर में बनने वाली चीज़ें भी बाज़ार में मिलती है जैसे अब सत्तू तीसी धान बाजरा मड़वा मकई का आटा चूरा (पोहा, चिड़वा ) लाई के लड्डू तिल के लड्डू होली की गुज़िया शरीफा टापलेमुन झिंगा मछली.... बाज़ार ने हमारी दौड़ धूप महनत कम कर दी है इसमें कोई शक़ नहीं घर बैठे इंट्रनेट पर अॉडर देकर कुछ भी मंगा लिजिए। मगर इस सुविधा में चकाचौंध में कहीं कुछ पिछे छूट गया है, संवेदना दिनो - दिन मिटती जा रही है, अब लोगों के दिलों में अहसास नहीं रहे हैं इनकी जगह अॉपचारिकता (खानापूर्ति ) ने ले ली है, टेलीफोन मोबाइल के ज़रिए अब कभी भी किसी से बात करना कितना आसान हो गया है मगर बात करने में वो पहले वाली बेसब्री इंतजार ललक मुहब्बत नहीं रही। अब कोई ज़ुदा होता है रुख़सत होता है तो अलविदा में नम आँखें उतनी नम नहीं होती दिल में चुभन नहीं होती, क्योंकि अब महिनों सालों कोई किसी से बात करने को नहीं तरसता, अब कोई हालचाल गुफ्तगू के लिए ख़तूत के मोहताज नहीं, फोन पर व्हाट्स एप्प पर रोज़ बात हो जाती है। अब तो आदमी मर जाता है तो उतना दु:ख नहीं होता उसके चले जाने का, उधर जनाज़ा उठा इधर मिंटो में सब नॉर्मल हो जाते हैं।

मैं अक्सर अपने प्रेज़ेंट को अपने पास्ट से नापती - तोलती रहती हूँ देखती रहती हूँ क्या खो दिया है क्या पा लिया है कुछ नया - नया पाकर खुशी और आराम मिलता है मगर माज़ी की कुछ बातें नहीं भुलती वो अभी भी खींच लेती हैं अपनी तरफ़ जैसे कि नानी के हाथों भेजी गई वो मोटरी जिसमें तीसी सत्तु चूरा लाई के लड्डू धान मड़वा का आटा ख़स्ता झिंगा मछली होती थी उस मोटरी का हम बेसब्री से इंतजार किया करते थे क्योंकि यह सब चीज़ें उन दिनों दिल्ली में नहीं मिलती थी नानी आती थी तो लाती थी या गाँव से आने वाले लोगों के हाथ भिजवाती थी, अब यह चीज़ें दिल्ली की हर गली में दुकानों पर मिल जाती हैं मगर मुझे वो मोटरी अब भी याद आती है क्योंकि उसमें सामान के साथ - साथ नानी का ख़त भी आता था और उनकी मुहब्बत भी जो अब किसी बाज़ार में नहीं मिलते।

जब कोई गाँव से आता - जाता है तो सफर के लिए ख़स्ता बनाकर दिया जाता है कितना टेस्टी होता है ख़स्ता मगर अब यह रिवाज़ भी कहीं छूट रहा है,अब कहीं नहीं मिलता ख़स्ता खाने को , ख़स्ता और छट पर्व पर बनने वाला ठेकुवा और बरेलवी मुसलमानों के कुंडा में बनने वाले कुंड्डे का स्वाद बिल्कुल एक जैसा है, इसलिए कहीं से कोई बरेलवी मुसलमान कुंड्डे दे दे कुंड्डो के दिनों में तो मैं देवबंदी मुसलमान हूँ मगर कुंड्डे लेने से मना नहीं करती, क्योंकि मैं बरेलवी देबंदी के तसद्दुद में नहीं पड़ती कुंड्डो को अल्लाह का रिज़्क़ समझकर खा जाती हूँ, क्योंकि उसमें मुझे ख़स्ता का स्वाद मिलता है, ऐसे ही मुझे छट पूजा का भी इंतज़ार रहता है क्योंकि उसमें बिहार के हिन्दू पड़ोसियों के यहाँ से ठेकुवा आता है प्रसाद में जिसे मैं आते ही चट कर जाती हूँ, क्योंकि मैं ठेकुवा और ख़स्ता में अंतर कर ही नहीं पाती बिल्कुल सेम टेस्ट और रेसिपी है दोनों की बस शक्लें मुख़तलिफ़ हैं।

जब हम छोटे थे तो ख़स्ता खाते थे कहीं से आता था और छट पूजा के ठेकुए, कहीं से तो नर्म - नर्म आते थे और कहीं से बहुत सख़्त जिन्हें खाना बहुत मुश्किल होता है, मैं अब्बा से पूछती "अब्बा ये इतने सख़्त क्यों हैं खाते-खाते दाँत दु:ख गए"अब्बा क्या ये नरम नहीं बन सकते जैसे फलां-फलां के यहाँ बनते हैं, अब्बा कहते "हां नरम भी बन सकते हैं अगर इनमें घी थोड़ा और पड़ जाए, जितना मीठा गेरो उतना मीठा और जितना घी गेरो उतना नरम "तब समझ आया लॉजिक कि किसी - किसी के यहाँ के ख़स्ता ठेकुए नरम क्यों होते हैं और किसी - किसी के यहाँ के सख़्त क्यों, एक दिन अब्बा से कहा" अब्बा ये लोग ख़स्ता और ठेकुवा बनाते समय अच्छी तरह घी क्यों नहीं डालते? क्यों सख़्त बनाकर रिज़्क़ का सत्यानाश करते हैं" अब्बा ने कहा "बाबु रिज़्क़ ऐसी चीज़ है जिसका कोई जानबूझकर कभी सत्यानाश नहीं करता न बर्बाद, यह ऐसी नियामत है जिसकी क़द्र सबको है, असलियत में सबकुछ आदमी की आमदनी और हैसियत पर मुनहसर(निर्भर ) है, घी कितना मंहगा आता है ग़रीब आदमी अपने हस्बेमाअमूल नहीं अपनी आमदनी और हैसियत के मुताबिक ही तो इस्तेमाल करेगा, ये पकवान ख़स्ता और ठेकुवा आमदनी तय करती है कितने सख़्त बनेंगे और कितने नरम"।

अब्बा की वो बात मैं आजतक नहीं भूली और अब तो और भी याद आती है जब घरारी का सारा दारोमदार ख़ुद संभालना पड़ता है, एक रोज़ कुछ साल पहले मेरे एक क़रीबी ने अपनी राय दी थी गृहस्थी घर परिवार के संदर्भ में कि "जितने ज़्यादा अपने परिवार वालों पर पैसे ख़र्च किये जाएं जितना उन्हें माना जाए उतनी ही उनसे मुहब्बत मिलेगी" उसने भी समझाते समय मिसाल पेश की थी कि "जितना गुड़ डालो उतना मीठा होता है ठीक वैसे ही परिवार के सदस्यों को जितना दो- लो मानो उतनी ही मुहब्बत" । मैं एकटक सुनती रही बाद में सोचा कि क्या मुहब्बत भी आदमी की आमदनी और हैसियत से मिलती है? पैसे खर्च करने से मिलती है, अगर पैसे से मिलती है तो फिर जो मिलती है वो मुहब्बत कहाँ है? नहीं मुहब्बत पैसे से कभी नहीं मिलती ये दौलत तो गॉड गिफ्टिड है जिसे कभी कोई ख़रीद - फ़रोग नहीं कर सकता, पैसे से शराफत से हम किसी की तवक्कात ख़ैरख़्वाही इज्ज़त पा सकते हैं मगर मुहब्बत नहीं, ठेकुवा और ख़स्ता नरम कर सकते हैं मगर किसी का दिल नहीं, सामान इंसान में फ़र्क़ है दोनों ही बिकते हैं बाज़ार में मगर दिल नहीं, मुहब्बत नहीं अगर ऐसा होता तो कभी कोई शख़्स एकतरफा मुहब्बत में कभी मज़बूर होकर लाचार होकर मुहब्बत पाने के लिए तरसता नहीं, कोई यतीम माँ-बाप की मुहब्बत को नहीं तरसता, आज तक कोई साइंस दा मुहब्बत भरा दिल इज़ाद कर सका है? किसी मुहब्बत के लिए तरसते इंसान के लिए मुहब्बत करने वाला इंसान बनाकर साइंटिस्ट्स ने बाज़ार मोल में भेजा है, नहीं क्योंकि यह सिर्फ इश्वर के बस की बात है इश्वर ही मुहब्बत का तोहफा देता है और सिर्फ मुहब्बत ही इश्वर तक ले जाती है, पाखंड कट्टरता नफरत ढकोसला नहीं।

मुहब्बत का तोहफा सबको मिले माँ-बाप दोस्त हमसफर की मुहब्बत इसी कामना के साथ छट पर्व की शुभकामनाएं।

मेहजबीं

विशिष्ट पोस्ट

सामान्य(मुस्लिम)जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को हटाने से संबंधित निर्णय को वापस ले सरकार वरना सड़क से लेकर संसद तक होगा आंदोलन :- मोहम्मद कमरे आलम

आठ वर्षों से कार्य कर रहे सामान्य मुस्लिम जाति के शिक्षा स्वयं सेवी(तालीमी मरकज़) को एक झटके में बिहार सरकार द्वारा सेवा से यह कह कर हटा दिया...